NRC पर बोला शिया वक्फ बोर्ड- हिन्दुस्तानी मुसलमानों को इससे खतरा नहीं, भारत में लागू होना चाहिए

उत्तर प्रदेश सेंट्रल शिया वक्फ बोर्ड ने गुरूवार को कहा कि हिन्दुस्तानी मुसलमानों को राष्ट्रीय नागरिक पंजी एनआरसी से खतरा नहीं है, और एनआरसी हिन्दुस्तान में लागू होना चाहिए. 

NRC पर बोला शिया वक्फ बोर्ड- हिन्दुस्तानी मुसलमानों को इससे खतरा नहीं, भारत में लागू होना चाहिए

CAA और NRC के खिलाफ पूरे देश में प्रदर्शन हो रहे हैं.

लखनऊ:

उत्तर प्रदेश सेंट्रल शिया वक्फ बोर्ड ने गुरूवार को कहा कि हिन्दुस्तानी मुसलमानों को राष्ट्रीय नागरिक पंजी एनआरसी से खतरा नहीं है, और एनआरसी हिन्दुस्तान में लागू होना चाहिए. बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी ने कहा, ''हिन्दुस्तानी मुसलमानों को एनआरसी से खतरा नहीं है. एनआरसी हिन्दुस्तान में लागू होना चाहिए, असल मामला घुसपैठियों की पहचान का है जो हमारे देश के लिए खतरा है.'' उन्होंने कहा कि ये घुसपैठिये कांग्रेस, ममता, सपा के लिए वोट बैंक हैं. साथ ही उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस हर प्रदेश में घुसपैठियों के वोटर आईडी कार्ड बना रही है.

अयोध्या पर फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में दायर सभी पुनर्विचार याचिकाएं खारिज

रिजवी ने कहा कि जब एनआरसी लागू होगा तो घुसपैठियों की शक्ल सामने आएगी. पाकिस्तान, बांग्लादेश, अफगानिस्तान के जो अल्पसंख्यक हिन्दू भारत आये हैं, वो असल में धर्म के आधार पर जुल्म झेल कर अपना धर्म और अपनी जान बचा कर आये हैं. उनको नागरिकता संशोधन कानून का लाभ मिलना चाहिए और इन देशों के जो मुसलमान भारत आये हैं वह अपने निजी फायदे के लिए आये हैं या भारत को नुकसान पहुंचाने की नीयत से आए हैं.

Ayodhya Verdict: अयोध्या पर फैसले के खिलाफ मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड दाखिल करेगा रिव्यू पिटीशन

उन्होंने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून में मुसलमानों को न शामिल करना भारत की सुरक्षा के हित में है. उन्होंने कहा कि जो भारत का मुसलमान है, वही सिर्फ हिन्दुतानी है और जो मुसलमान घुसपैठिये हैं, उनको देश छोड़ना ही चाहिए. रिजवी ने कहा कि एनआरसी और संशोधित नागरिकता कानून का विरोध कांग्रेस और उसकी जैसी पार्टियों ने हिंदुस्तानी मुसलमानों से करवा कर सड़कों पर उनका खून बहाया है. उन्होंने कहा कि अभी हाल में कई प्रदेशों में जो उग्र प्रदर्शन हुए हैं, वह साजिश के तहत कराए गए हैं .

VIDEO: असदुद्दीन ओवैसी ने बताया- क्या है NRC और NPR में अतंर?



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com