बुलेट ट्रेन और परमाणु ऊर्जा सहित भारत और जापान के बीच हुए कई अहम समझौते

बुलेट ट्रेन और परमाणु ऊर्जा सहित भारत और जापान के बीच हुए कई अहम समझौते

नई दिल्‍ली:

उत्तरोत्तर आगे बढ़ते द्विपक्षीय संबंधों को नई ऊंचाईयों पर ले जाते हुए भारत और जापान ने रक्षा और परमाणु ऊर्जा जैसे प्रमुख क्षेत्रों तथा 98,000 करोड़ रुपये की लागत से मुंबई-अहमदाबाद के बीच पहला बुलेट ट्रेन नेटवर्क निर्माण सहित कई समझौतों पर हस्ताक्षर किए। इस अवसर पर पीएम मोदी ने जापानी नागरिकों के लिए एक मार्च 2016 से आगमन पर वीजा सुविधा का ऐलान भी किया। (भारत को मिलने वाली पहली बुलेट ट्रेन से जुड़ी दस खास बातें)

शिखर वार्ता में कई अंतरराष्ट्रीय और क्षेत्रीय मुद्दों पर हुई चर्चा
इन रणनीतिक समझौतों पर हस्ताक्षर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके जापानी समकक्ष शिन्जो आबे के बीच शिखर वार्ता के बाद हुए। इस शिखर वार्ता में दोनों नेताओं ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में विस्तार सहित परस्पर रूप से महत्वपूर्ण कई अंतरराष्ट्रीय और क्षेत्रीय मुद्दों पर चर्चा की।

रेल विकास के लिए 12 अरब डॉलर की मदद
आबे के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा 'भारत के आर्थिक सपनों को सच करने में जापान से ज्यादा कोई मित्र मायने नहीं रखेगा।' उन्होंने आबे को 'एक निजी मित्र और भारत जापान भागीदारी का बड़ा समर्थक बताया।' हस्ताक्षरित समझौतों का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा 'गति, विश्वसनीयता और सुरक्षा के लिए जानी जाने वाली शिनकानसेन के माध्यम से मुंबई-अहमदाबाद सेक्टर में हाई स्पीड रेल चलाने का फैसला ऐतिहासिक से कम नहीं है।' उन्होंने कहा कि परियोजना के लिए करीब 12 अरब डॉलर का महत्वपूर्ण पैकेज और बहुत आसान शर्तों पर तकनीकी सहायता सराहनीय है। पीएम मोदी ने कहा कि हमने असैन्य परमाणु ऊर्ज सहयोग पर हस्ताक्षर किए जो वाणिज्य एवं स्वच्छ ऊर्जा के लिए एक समझौते से कहीं ज्यादा है। यह एक शांतिपूर्ण तथा सुरक्षित दुनिया के लक्ष्य में रणनीतिक भागीदारी और परस्पर विश्वास के नए स्तर का एक शानदार प्रतीक है।' साथ ही उन्होंने जानकारी दी कि अगले पांच सालों में जापान भारत में 35 अरब डॉलर निवेश करेगा और मेक इन इंडिया मुहिम में मदद भी देगा।

वहीं, जापानी पीएम ने साझा बयान में अपने संबोधन की शुरुआत नमस्‍कार अभिवादन से साथ की।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

हाई स्पीड ट्रेन नहीं, हाई स्पीड ग्रोथ भी चाहते हैं : पीएम मोदी
तीन दिवसीय भारत दौरे पर आए जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे के दौरे के दूसरे दिन की शुरुआत आज दिल्ली में बिजनेस लीडर फोरम से हुई। फोरम में पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि वे हाई स्पीड ट्रेन नहीं, बल्कि हाई स्पीड ग्रोथ भी चाहते हैं। पीएम ने कहा कि ऐसा पहली बार होगा कि भारत से जापान कार आयात करेगा और जापानी कंपनियों की कारें भारत में बनेंगी। उन्होंने कहा कि भारत संभावनाओं का देश है और तकनीक इसकी ताक़त है और जापान में मेक इन इंडिया मिशन चल रहा है।

पीएम मोदी की स्पीड बुलेट ट्रेन की तरह : शिंजो आबे
वहीं, जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने अपने संबोधन की शुरुआत पीएम मोदी की तारीफ़ से की। उन्होंने कहा कि नीतियों को अमल में लाने में पीएम मोदी की स्पीड बुलेट ट्रेन की तरह है। साथ ही उन्होंने कहा कि मज़बूत जापान भारत के लिए अच्छा है।
(इनपुट भाषा से भी)