NDTV Khabar

शिर्डी के साईं बाबा मंदिर ट्रस्ट को सिक्कों ने कर दिया चिंतित, जानिए कारण

महाराष्ट्र के शिर्डी के साईं बाबा मंदिर में बड़ी तादाद में चढ़ाए जा रहे सिक्के, बैंकों ने सिक्कों को रखने से कर दिया इनकार

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
शिर्डी के साईं बाबा मंदिर ट्रस्ट को सिक्कों ने कर दिया चिंतित, जानिए कारण

शिर्डी साईं संस्थान को हर सप्ताह करीब 14 लाख रुपये के सिक्के दान में मिलते हैं.

खास बातें

  1. सिक्कों की भरमार ने बढ़ाई साई संस्थान ट्रस्ट की चिंता बढ़ा दी
  2. बैंकों ने सिक्के रखने की व्यवस्था न होने से हाथ खड़े किए
  3. हर हफ्ते करीब 15 लाख रुपये के सिक्के आते हैं दान में
शिर्डी:

देश के अमीर मंदिरों में से एक शिर्डी का साईं मंदिर ट्रस्ट इन दिनों दान में मिलने वाले सिक्कों से परेशान है. मंदिर ट्रस्ट के मुताबिक दान में मिलने वाले सिक्कों की संख्या इतनी अधिक हो गई है कि अब बैंकों ने उसे रखने की जगह की कमी बताकर लेने से मना कर दिया है.

कहते हैं देश और दुनिया भर से भक्तों की चिंता साईं हर लेते हैं लेकिन साईं मंदिर खुद इन दिनों एक बड़ी चिंता से ग्रस्त है. चिंता है बड़ी संख्या में दान में मिलने वाले सिक्के.. जिन्हें बैंकों ने जमा करने से मना कर दिया है. मंदिर ट्रस्ट के मुताबिक सप्ताह भर में तकरीबन 14 लाख रुपये के सिक्के चढ़ावे में आते हैं.

शिर्डी साईं संस्थान ट्रस्ट के सीईओ दीपक मुगलिकर ने बताया कि सप्ताह में दो बार गिनते हैं. एक बार की गिनती में दो करोड़ के करीब दान रहता है. उसमें से सात लाख के करीब सिक्के होते हैं जिन्हें बैंकों ने लेने से मना कर दिया है.


शिर्डी में साईं मंदिर के आठ बैंकों में अलग-अलग एकाउंट हैं. ट्रस्ट के मुताबिक सभी बैंकों ने सिक्के रखने के लिए जगह की कमी का कारण दिया है.

q1gnci2k

साईं ट्रस्ट ने अब आरबीआई से गुहार लगाने के साथ वैकल्पिक सुझाव भी दिया है. दीपक मुगलिकर ने कहा कि हमने यह भी सुझाव दिया है कि अगर उनके पास जगह नहीं है तो हम जगह देने को तैयार हैं. जब तक उनके पास जगह नहीं है तब तक बैंक की तरफ से स्टोर करने के लिए हम जगह दे सकते हैं.

oppen24g

शिर्डी के बैंकों ने सिक्कों के लिए उनके पास जगह नहीं होने की पुष्टि की है पर इस मुद्दे पर बात करने से मना कर दिया है.

 VIDEO : साईं बाबा मंदिर पहुंचे पीएम मोदी

टिप्पणियां

(शिर्डी से माधव ओझा का इनपुट)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement