किसान आंदोलन पर कनाडाई पीएम के बयान पर बिफरी शिवसेना, भारत के अंदरूनी मामले में दखलंदाजी पर दी ये नसीहत

Farmers Protest shiv sena : शिवसेना प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने कहा, भारत का आंतरिक मामला कनाडा की राजनीति के लिए चारा नहीं है. विदेशी नेताओं को दूसरे देशों के प्रति सम्मान प्रकट करने का शिष्टाचार निभाना चाहिए. 

किसान आंदोलन पर कनाडाई पीएम के बयान पर बिफरी शिवसेना, भारत के अंदरूनी मामले में दखलंदाजी पर दी ये नसीहत

Farmers Protest March : कनाडाई पीएम ने किसान आंदोलन पर जताई थी चिंता

मुंबई:

कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो (Justin Trudeau)  की भारत में कृषि आंदोलन (Farmers Protest) को लेकर की गई टिप्पणी पर शिवसेना बिफरी है. शिवसेना (Shivsena) प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी (Priyanka Chaturvedi) ने मंगलवार को कनाडाई प्रधानमंत्री को नसीहत देते हुए कहा कि कहा कि ट्रुडो को “भारत के आतंरिक मामले का इस्तेमाल” कर राजनीति नहीं करनी चाहिए.

Newsbeep

दिल्ली के पास हो रहे किसानों के विरोध प्रदर्शन पर कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रुडो की कथित टिप्पणी पर आपत्ति जताते हुए शिवसेना सांसद प्रियंका चतुर्वेदी ने कहा कि विदेशी नेताओं को दूसरे देशों के प्रति सम्मान प्रकट करने का शिष्टाचार निभाना चाहिए.  राज्यसभा सदस्य चतुर्वेदी ने ट्वीट किया, “जस्टिन ट्रुडो मैं आपकी चिंता की कद्र करती हूं, लेकिन भारत का अंदरूनी मामला किसी अन्य देश की राजनीति के लिए चारा नहीं है. कृपया दूसरे देशों के प्रति सम्मान प्रकट करने का शिष्टाचार निभाएं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी से अनुरोध करती हूं कि इस मुद्दे को, दूसरे देशों द्वारा अपनी राय दिए जाने से पहले ही सुलझा लें.''

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


ट्रुडो ने गुरुपर्व के अवसर पर फेसबुक पर एक वीडियो जारी कर कहा था, “भारत में किसानों के विरोध प्रदर्शन की खबरों का संज्ञान न लूं तो इसे मामले को नजरअंदाज करना माना जाएगा। स्थिति चिंताजनक है और हम सब परिवारों और दोस्तों के बारे में परेशान हैं.” उन्होंने कहा था कि कनाडा हमेशा शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन के समर्थन में है. हम संवाद के महत्व में विश्वास करते हैं और हमने भारतीय अधिकारियों को अपनी चिंता से अवगत कराया है. नए कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली की सीमाओं पर छह दिनों से किसानों का प्रदर्शन चल रहा है.

किसान भ्रमित नहीं है, अपने हक के लिए हम यहां एकत्रित हुए हैं: प्रदर्शन कर रहे किसान


(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)