NDTV Khabar

उद्धव ठाकरे की पार्टी के दिग्गज नेता का बड़ा बयान- फिर साथ आ सकते हैं शिवसेना-BJP लेकिन इस बारे में...

महाराष्ट्र (Maharashtra) के पूर्व मुख्यमंत्री और शिवसेना (Shiv Sena) के वरिष्ठ नेता मनोहर जोशी (Manohar Joshi) ने मंगलवार को कहा कि उनकी पार्टी और भाजपा निकट भविष्य में फिर साथ आ सकते हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
उद्धव ठाकरे की पार्टी के दिग्गज नेता का बड़ा बयान- फिर साथ आ सकते हैं शिवसेना-BJP लेकिन इस बारे में...

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के साथ पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस. (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. पूर्व CM और शिवसेना नेता मनोहर जोशी का बड़ा बयान
  2. महाराष्ट्र में फिर साथ आ सकते हैं शिवसेना और BJP
  3. उद्धव ठाकरे इस मुद्दे पर उचित समय पर लेंगे निर्णय
मुंबई:

महाराष्ट्र (Maharashtra) के पूर्व मुख्यमंत्री और शिवसेना (Shiv Sena) के वरिष्ठ नेता मनोहर जोशी (Manohar Joshi) ने मंगलवार को कहा कि उनकी पार्टी और भाजपा निकट भविष्य में फिर साथ आ सकते हैं. जोशी ने पत्रकारों से कहा कि शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) इस मुद्दे पर उचित समय पर निर्णय लेंगे. उन्होंने कहा, 'छोटे मुद्दों पर लड़ने की जगह बेहतर है कि कुछ बातों को बर्दाश्त किया जाए. जिन मुद्दों को आप दृढ़ता के साथ महसूस करते हैं, उसे साझा करना अच्छा है. अगर दोनों दल साथ में काम करते हैं तो यह दोनों के लिए बेहतर होगा.'

नागरिकता बिल पर उद्धव ठाकरे के यू-टर्न से बीजेपी की नाराजगी आई सामने, शिवसेना को याद दिलाया 'हिंदुत्व एजेंडा'

जोशी ने कहा, 'ऐसा नहीं है कि शिवसेना अब कभी भी भाजपा के साथ नहीं जाएगी. उद्धव ठाकरे सही समय पर सही निर्णय लेंगे.' वरिष्ठ शिवसेना नेता का यह बयान ऐसे समय पर आया है, जब दोनों दलों के बीच हाल में मुख्यमंत्री पद को लेकर सहमति नहीं बन पाने के चलते अलगाव हो गया था. इसके बाद शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस ने मिलकर महाराष्ट्र में सरकार बनाई थी.


शिवसेना का मोदी सरकार पर निशाना- अर्थव्यवस्था के सर्वनाश के लिए नेहरू तथा इंदिरा गांधी को जिम्मेदार नहीं ठहरा सकते

बता दें कि भारतीय जनता पार्टी (BJP) और शिवसेना (Shiv Sena) ने महाराष्ट्र में साथ मिलकर चुनाव लड़ा था और दोनों को बहुमत भी मिला था. हालांकि बाद में शिवसेना ने तीन दशक से अधिक समय तक अपने सहयोगी दल भारतीय जनता पार्टी (BJP) से 50:50 फॉर्मूले पर सहमति नहीं बनने के बाद नाता तोड़ लिया था.

टिप्पणियां

आखिर क्‍यों महाराष्‍ट्र में देवेंद्र फडणवीस ने अजित पवार पर कर लिया था भरोसा...

शिवसेना की मांग थी कि ढाई साल शिवसेना (Shiv Sena) का मुख्यमंत्री होगा और ढाई साल बीजेपी का मुख्यमंत्री बनेगा. बीजेपी (BJP) ने शिवसेना (Shiv Sena) की इस मांग को सिरे से खारिज कर दिया था कि इस तरह के किसी भी समझौते पर सहयोगी दल के साथ कोई चर्चा नहीं की गई. इसके बाद केंद्र सराकर में शामिल शिवसेना का एकमात्र मंत्री अरविंद सावंत ने इस्तीफा दे दिया था.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें. India News की ज्यादा जानकारी के लिए Hindi News App डाउनलोड करें और हमें Google समाचार पर फॉलो करें


 Share
(यह भी पढ़ें)... सेक्स कम करने से 35 की उम्र के बाद महिलाओं में आती है ये परेशानी

Advertisement