NDTV Khabar

शुजात बुखारी की हत्या : प्रणब मुखर्जी, राजनाथ, राहुल सहित इन बड़े नेताओं ने जताया गहरा शोक

वरिष्ठ पत्रकार शुजात बुखारी की हत्या पर कई केन्द्रीय मंत्रियों और विपक्षी दलों के नेताओं ने शोक जताया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
शुजात बुखारी की हत्या : प्रणब मुखर्जी, राजनाथ, राहुल सहित इन बड़े नेताओं ने जताया गहरा शोक

फाइल फोटो

खास बातें

  1. शुजात बुखारी की हत्या पर कई बड़े नेताओं ने शोक जताया है
  2. गुरूवार शाम को हुई थी शुजात बुखारी की हत्या
  3. 'राइजिंग कश्मीर' के संपादक थे शुजात बुखारी
नई दिल्ली: वरिष्ठ पत्रकार शुजात बुखारी की हत्या पर कई केन्द्रीय मंत्रियों और विपक्षी दलों के नेताओं ने शोक जताया है. पत्रकार शुजात बुखारी की हत्या पर पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथा सिंह, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से लेकर कई पत्र और विपक्ष के नेताओं ने गहरा शोक जताया है. केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने ‘‘राइजिंग कश्मीर’’ के संपादक की हत्या को ‘‘कायराना कृत्य’’ करार देते हुए कश्मीर की विचारशील आवाज को दबाने का प्रयास बताया. राजनाथ ने पत्रकार की हत्या पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए ट्वीट किया, ‘‘राइजिंग कश्मीर के संपादक शुजात बुखारी की हत्या एक कायराना कृत्य है. यह कश्मीर में विचारशील आवाज को दबाने का एक प्रयास है, वह एक साहसी और निर्भीक पत्रकार थे.’ उन्होंने ट्विटर पर लिखा, ‘‘उनकी मृत्यु से बहुत स्तब्ध और दुखी हूं. मेरी संवेदनाएं उनके शोक संतप्त परिवार के साथ हैं.” 
 
वहीं, पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने शुजात बुखारी की हत्या पर शोक जताते हुए ट्वीट किया. “शुजात बुखारी की भयानक हत्या पर मैं चौंक गया हूं. इस तरह की मूर्खतापूर्ण हिंसा की हमारे देश में कोई जगह नहीं है. उनके परिवार और दोस्तों के लिए मेरी गहरी संवेदना. उनकी आवाज को दबाया नहीं जा सकता.” 
यह भी पढ़ें:  'शांति' और 'संवाद' की हिमायत करने वाले शुजात बुखारी आखिर क्यों थे निशाने पर, 10 बड़ी बातें

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी वरिष्ठ पत्रकार बुखारी की हत्या पर दुख प्रकट किया और कहा कि वह एक साहसी पत्रकार थे जो जम्मू कश्मीर में शांति के लिए निर्भीक होकर लड़ रहे थे. राहुल ने ट्वीट किया, ‘‘राइजिंग कश्मीर के संपादक शुजात बुखारी की हत्या की खबर सुनकर दुखी हूं. वह बहादुर इंसान थे जो जम्मू-कश्मीर में न्याय और शांति के लिए निर्भीक होकर लड़ रहे थे. मेरी संवेदनाएं उनके परिवार के प्रति हैं. बुखारी की कमी महसूस होगी.’’
    
जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कहा, ‘‘मैं क्या कह सकती हूं. कुछ दिन पहले ही वह मुझसे मिलने आए थे.’’    उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘शुजात बुखारी के अचानक चले जाने से स्तब्ध और दुखी हूं. आतंकवाद की बुराई ने ईद की पूर्व संध्या पर अपना घिनौना चेहरा दिखाया है. मैं बर्बर हिंसक कृत्य की कड़ी निन्दा करती हूं और प्रार्थना करती हूं कि ईश्वर उनकी (बुखारी) आत्मा को शांति प्रदान करें.’’ 
   
यह भी पढ़ें: किस-किस खतरे का सामना करते हैं शुजात बुखारी और कश्मीर घाटी के उनके जैसे पत्रकार

टिप्पणियां
केन्द्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने कहा कि ‘राइजिंग कश्मीर’ के संपादक शुजात बुखारी की हत्या प्रेस की आजादी पर बर्बर हमला है. उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘शुजात बुखारी की हत्या प्रेस की आजादी पर बर्बर हमला है. यह कायराना और निंदनीय आतंकी कृत्य है. हमारा निर्भीक मीडिया हमारे लोकतंत्र की सबसे बड़ी ताकत है और हम मीडियाकर्मियों के लिए सुरक्षित एवं अनुकूल कामकाजी माहौल प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध हैं.’’  
 
केन्द्रीय विधि मंत्री रविशंकर प्रसाद ने ट्वीट कर कहा कि वह वरिष्ठ पत्रकार की हत्या के बारे में जानकर ‘‘बहुत दुखी’’ हैं. राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा, ‘‘उन्होंने (बुखारी) 2014 की बाढ़ के दौरान काफी अच्छा कार्य किया. वह एक अच्छे व्यक्ति थे. उनकी मृत्यु से हमने एक अच्छा पत्रकार और समाजसेवक खो दिया है.’’    
जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने कहा, ‘‘इतना स्तब्ध हूं कि शब्दों में बयां नहीं कर सकता. शुजात को जन्नत मिले और उनके प्रियजनों को इस मुश्किल घड़ी में ताकत मिले.’’    

VIDEO: पत्रकार शुजात बुखारी का कत्ल, लोकतंत्र की हत्या है : गुलाम नबी आजाद
वरिष्ठ पत्रकार एवं उनके दो पीएसओ की आतंकवादियों ने श्रीनगर के लालचौक पर प्रेस एन्क्लेव स्थित उनके कार्यालय के बाहर गोली मारकर हत्या कर दी.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement