NDTV Khabar

सिक्किम के पवन चामलिंग बने भारत के सबसे अधिक समय तक राज करने वाले सीएम, ज्‍योति बसु का रिकॉर्ड तोड़ा

सिक्किम के मुख्यमंत्री पवन चामलिंग भारत के इतिहास में किसी भी राज्य में सबसे अधिक समय तक मुख्यमंत्री के रूप में सेवा करने वाले पहले मुख्यमंत्री बन गये हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सिक्किम के पवन चामलिंग बने भारत के सबसे अधिक समय तक राज करने वाले सीएम, ज्‍योति बसु का रिकॉर्ड तोड़ा

सीएम पवन चामलिंग (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: सिक्किम के मुख्यमंत्री पवन चामलिंग भारत के इतिहास में किसी भी राज्य में सबसे अधिक समय तक मुख्यमंत्री के रूप में सेवा करने वाले पहले मुख्यमंत्री बन गये हैं. पवन चामलिंग ने बिना किसी बाधा के 25 साल का लंबा कार्यकाल पूरा कर लिया. उन्होंने पश्चिम बंगाल के पूर्व मुख्यमंत्री ज्योति बसु का रिकॉर्ड तोड़ दिया, जिन्होंने 23 साल तक पद संभाला था. इससे पहले सबसे लंबे समय तक मुख्यमंत्री रहने का रिकॉर्ड ज्योति बसु का ही था. 

सत्तारूढ़ सिक्किम डेमोक्रेटिक फ्रंट (एसडीएफ) के संस्थापक अध्यक्ष पवन चामलिंग दिसंबर 1994 में मुख्यमंत्री बने थे. 'न्यू सिक्किम, हैप्पी सिक्किम' के नारे के साथ, उन्होंने राज्य को बदलने के लिए नीतियों और कार्यक्रमों की शुरुआत की. इस मौके पर उनके समर्थक उन्हें सम्मानति करने के लिए आयोजन आयोजित किया. 

सिक्किम में जल्द शुरू होगा पहला सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेज

सीएम चामलिंग ने कहा कि जैसा कि मैंने एक व्यक्तिगत मील का पत्थर पार की है, तो मैं उन सभी लोगों को याद रखना चाहूंगा, जो इस यात्रा का हिस्सा रहे हैं. सबसे पहले और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि मेरा दिल से सिक्किम के लोगों को को धन्यवाद, जिन्होंने मुझे लगातार पांचवे टर्म के लिए जनादेश दिया और मुझ पर विश्वास जताया. 

68 साल के सीएम चामलिंग ने कहा कि इस महत्वपूर्ण अवसर पर मैं स्वर्गीय ज्योति बसु जी के प्रति अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं, एक महान राजनेता जिसके लिए मेरे दिल में अपाल सम्मान है और जिनका मुख्यमंत्री पद के रूप में कार्यकाल है, मैं उनका रिकॉर्ड पार कर अपने आप को भाग्यशाली समझता हूं.'

बता दें कि दक्षिण सिक्किम के यांगांग में जन्मे सीएम चामलिंग मैट्रिक पास हैं और उनका दावा है कि उन्होंने खुद से पढ़ाई की है.

सिक्किम उपचुनाव : बतौर निर्दलीय उम्मीदवार मुख्यमंत्री के भाई अारएन चामलिंग विजयी

टिप्पणियां
1973 में, जब वह केवल 22 वर्ष के थे, तब उन्होंने राजनीति में अपना कमद रखा. उस वक्त भारत के साथ सिक्किम साम्राज्य के विलय की बात कर रही थी. उसके बाद 1975 में चामलिंग युवा कांग्रेस के ब्लॉक अध्यक्ष बने और 1978 में प्रजातंत्र कांग्रेस के सचिव चुने गए. 1983 में वह यांगांग ग्राम पंचायत इकाई के अध्यक्ष चुने गए. इस तरह से साल 1993 में सीएम चामलिंग ने सिक्किम डेमोक्रेटिक फ्रंट पार्टी का गठन किया.

VIDEO: भारत-चीन सीमा पर रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement