NDTV Khabar

प्रतिबंधित सिमी कैदियों के जेल से भागने और उनके मारे जाने के बीच कई टूटी कड़ियां

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
प्रतिबंधित सिमी कैदियों के जेल से भागने और उनके मारे जाने के बीच कई टूटी कड़ियां

इसी स्‍थान पर सिमी आतंकियों को मुठभेड़ मार गिराया गया

खास बातें

  1. जेल से 12 किमी दूर हुई कथित मुठभेड़ पर सवाल उठा रहे वीडियो
  2. एक चश्‍मदीद ने बताया, वे पत्‍थर फेंक रहे थे तभी ग्रामीणों ने घेर लिया
  3. मध्‍यप्रदेश की जेल मंत्री का एक ही जवाब ' जांच हो रही है'
भोपाल:

भोपाल में जेल तोड़कर फ़रार हुए सिमी के आठ कैदियों की मुठभेड़ को लेकर कई सवाल उठ रहे हैं. क़ैदियों के भागने, उनके ईंटखेड़ी तक पहुंचने और वहां मारे जाने के बीच कई टूटी हुई कड़ियां हैं और हैरान करने वाले हालात हैं.

दरअसल, भोपाल सेंट्रल जेल से क़रीब 12 किलोमीटर दूर इस पठारी इलाक़े में सोमवार सुबह हुई तथाकथित मुठभेड़ पर सवाल उठाने वाले वीडियो एक के बाद एक सामने आ रहे हैं. इन वीडियो में कहीं पुलिस, फ़रार क़ैदियों को घेरते हुए दिख रही है, कहीं उन पर फायर करते हुए और कहीं उनकी जेब से हथियार निकालते हुए. यह कहीं नज़र नहीं आ रहा कि यहां मुठभेड़ के हालात थे. चश्मदीद जो बता रहे हैं, उससे भी इस दावे की तस्दीक नहीं हो रही.

अजय अहिरवाल जो कि एक चश्मदीद है, ने NDTV को बताया, 'वो पत्‍थर फेंक रहे थे जब गांव वालों ने उन्हें घेर लिया और पुलिस को इत्तला दी. कई गांव वालों ने वीडियो भी बनाए.'  वैसे इन वीडियो के अलावा भी रविवार रात 2-3 बजे से शुरू होकर सोमवार सुबह तक चली इस कहानी में कई सवाल हैं....


-भोपाल की बेहद सुरक्षित मानी जाने वाली सेंट्रल जेल से 8 क़ैदी एक साथ कैसे फ़रार हो गए?
-उनकी निगरानी के लिए तैनात एसएएफ के लोग रविवार रात क्यों नहीं थे?
-उनकी सेल में लगे 4 सीसीटीवी कैमरे क्यों नहीं काम कर रहे थे?
-उनके पास इतने हथियार कहां से आ गए, जितने पुलिस बता रही है?
-फ़रारी के बाद इतने घंटों में वो एक साथ इकट्ठा बस 12 किमी दूर कैसे पहुंच पाए?

टिप्पणियां

जेल अधिकारियों से लेकर जेल मंत्री तक सबके पास बस एक ही जवाब हैं- इन सबकी जांच हो रही है. जेल मंत्री कुसुम महेदेले ने कहा कि सारे पहलू जांच के दायरे में हैं. मगर मुठभेड़ की सच्चाई पर सवाल बढ़ते जा रहे हैं जबकि मुख्यमंत्री से लेकर केंद्रीय मंत्री तक देश की सुरक्षा का हवाला दे रहे हैं.

इन सबके बीच राज्य सरकार ने साफ़ कर दिया है कि एनआईए की जांच मुठभेड़ पर नहीं, क़ैदियों की फ़रारी पर केंद्रित होगी. मध्‍यप्रदेश के गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह ने कहा कि मामला राष्‍ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) को दिया जा चुका है.जाहिर है, अब ये जांच से ही सामने आएगा कि फ़रारी और मारे जाने के बीच किन-किन लोगों ने क्या-क्या भूमिका अदा की.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement