जामिया और शाहीन बाग में प्रदर्शनकारियों पर हुई फायरिंग पर भड़के सीताराम येचुरी, कहा - ये सब सिर्फ पीएम की वजह से ही...

सीताराम येचुरी ने सोमवार को कहा कि प्रदर्शनकारियों पर बार-बार फायरिंग के पीछे की एक वजह प्रधानमंत्री की चुप्पी भी रही है.

जामिया और शाहीन बाग में प्रदर्शनकारियों पर हुई फायरिंग पर भड़के सीताराम येचुरी, कहा - ये सब सिर्फ पीएम की वजह से ही...

सीताराम येयुरी ने पीएम मोदी पर साधा निशाना

नई दिल्ली:

नागरिकता कानून के खिलाफ जामिया और शाहीन बाग में प्रदर्शन कर रहे लोगों पर हुई फायरिंग की घटनाओं का कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया के महासचिव सीताराम येचुरी ने कड़े शब्दों में निंदा की है. इतना ही नहीं उन्होंने इसके लिए पीएम मोदी की चुप्पी को भी जिम्मेदार बताया है. सीताराम येचुरी ने सोमवार को कहा कि प्रदर्शनकारियों पर बार-बार फायरिंग के पीछे की एक वजह प्रधानमंत्री की चुप्पी भी रही है. साथ ही इसके लिए भाजपा नेताओं द्वारा कथित तौर पर हिंसा भड़काये जाने को जिम्मेदार ठहराया है. बता दें कि चुनाव आयोग ने दिल्ली विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान भाजपा सांसद प्रवेश वर्मा और केन्द्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर को भड़काऊ बयान देने के कारण उनके खिलाफ कार्रवाई कर चुका है.

CAA और NRC पर जनता के गुस्से ने मोदी को असम यात्रा रद्द करने पर मजबूर किया: सीताराम येचुरी

सीताराम येचुरी ने सोमवार को ट्वीट कर कहा कि हर जगह बार-बार गोलीबारी हो रही है और यह प्रधानमंत्री की चुप्पी और मंत्रियों एवं भाजपा नेताओं द्वारा हिंसा भड़काए जाने का नतीजा है. एक के बाद एक इस तरह के वारदात साफ तौर पर मिलीभगत की ओर इशारा करती है. उन्होंने कहा कि शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने वालों को खलनायक बता कर हिंसा उकसाने वालों को खुली छूट है. बता दें कि रविवार को दो अज्ञात व्यक्तियों ने कथित तौर पर जामिया मिल्लिया इस्लामिया के बाहर गोलीबारी की, हालांकि इसमें कोई हताहत नहीं हुआ.

Newsbeep

सीताराम येचुरी बोले- सबरीमाला पर पीएम मोदी का बयान सुप्रीम कोर्ट की अवमानना

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इससे पहले 30 जनवरी को सीएए के विरोध में जामिया से राजघाट तक पैदल मार्च के दौरान भी गोलीबारी की घटना हुई, इसमें एक छात्र घायल हो गया था. इसके बाद एक फरवरी को भी शाहीन बाग में धरना स्थल पर गोलीबारी की घटना हुई, इसमें कोई हताहत नहीं हुआ था.सीताराम येचुरी ने कहा कि दिल्ली में कानून व्यवस्था की जिम्मेदारी केन्द्र सरकार की है. बार-बार हिंसा भड़काने की घटनाओं की जिम्मेदारी और जवाबदेही सीधे तौर पर गृह मंत्री और प्रधानमंत्री की है. 



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)