UP में बारिश की वजह से छह और लोगों की मौत, Bihar में मृतकों की संख्या बढ़कर 55 हुई

Bihar, UP Rain: 27 सितम्बर से 30 सितम्बर तक राज्य में अप्रत्याशित वर्षा होने एवं नदियों के जल स्तर में वृद्धि होने से पटना, भोजपुर, भागलपुर, नवादा, नालन्दा, खगड़िया, समस्तीपुर, लखीसराय, बेगूसराय, वैशाली, बक्सर, कटिहार, जहानाबाद अरवल एवं दरभंगा जिले मुख्य रूप से बाढ़ से प्रभावित हुए हैं.

UP में बारिश की वजह से छह और लोगों की मौत, Bihar में मृतकों की संख्या बढ़कर 55 हुई

UP, Bihar Flood: लगातार बारिश के चलते बाढ़ से जूझ रहे हैं यूपी और बिहार

खास बातें

  • बिहार में पिछले तीन दिन से लगातार हो रही है मूसलाधार बारिश
  • बाढ़ में डूबने के कारण 55 लोगों के मरने और नौ लोगों के घायल होने की सूचना
  • बाढ़ पीड़ितों के सहायतार्थ 45 राहत शिविर एवं 324 सामुदायिक रसोई बनाई गई
लखनऊ/पटना:

बिहार में पिछले तीन दिन से जारी मूसलाधार बारिश के कारण बुधवार को भी जीवन अस्त-व्यस्त रहा. प्रदेश में भारी वर्षा के कारण मरने वालों की संख्या बढकर 55 हो गयी जबकि 9 अन्य घायल हुए हैं. आपदा प्रबंधन विभाग से प्राप्त जानकारी के मुताबिक वर्षा और वर्षा जनित कारणों तथ बाढ़ में डूबने के कारण 55 लोगों के मरने और नौ लोगों के घायल होने की सूचना मिली है. 27 सितम्बर से 30 सितम्बर तक राज्य में अप्रत्याशित वर्षा होने एवं नदियों के जल स्तर में वृद्धि होने से पटना, भोजपुर, भागलपुर, नवादा, नालन्दा, खगड़िया, समस्तीपुर, लखीसराय, बेगूसराय, वैशाली, बक्सर, कटिहार, जहानाबाद अरवल एवं दरभंगा जिले मुख्य रूप से बाढ़ से प्रभावित हुए हैं.

पटना में जलजमाव को लेकर बोले केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह- जो बाढ़ आया उसके लिए जनता नहीं हम जिम्मेदार

वहीं उत्तर प्रदेश में बारिश से संबंधित घटनाओं में छह और लोगों की मौत हो जाने से राज्य में मृतकों की संख्या बढ़कर 117 हो गई है. इसके साथ ही 2,300 से अधिक कच्चे मकानों को नुकसान पहुंचा है. मौसम विभाग ने गुरुवार को उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में हल्की बारिश की भविष्यवाणी की है. इससे पहले मौसम विभाग ने बुधवार को बताया कि कुंडा (प्रतापगढ) में सबसे अधिक 13 सेंटीमीटर बारिश हुई. मंझानपुर (कौशाम्बी) में दस, बांदा में छह, डलमउ, बिन्दकी, फतेहपुर और कर्वी में पांच-पांच सेंटीमीटर, महोबा में 11, झांसी में सात और उरई में छह सेंटीमीटर बारिश रिकार्ड की गई. 

नीतीश ने माना कि पंपिंग हाउसों के काम न करने से जल जमाव था, कहा- अब पटना को सुधार देंगे

बिहार में बाढ़ पीड़ितों के सहायतार्थ 45 राहत शिविर एवं 324 सामुदायिक रसोई का संचालन किया जा रहा है. कुल 1,124 सरकारी एवं निजी नावों का संचालन किया जा रहा है. इन जिलों में बाढ़ से प्रभावित व्यक्तियों को एसडीआरएफ और एनडीआरएफ टीमों के सहयोग से सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया है. आबादी निष्क्रमन तथा राहत एवं बचाव कार्यों के निमित्त एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की कुल 23 टीमों को लगाया गया है. इसमें जिसमें गुवाहाटी से बुलाये गये एनडीआरएफ के अतिरिक्त 4 टीमें शामिल हैं. पटना शहर के जल-जमाव वाले क्षत्रों में स्थिति से निपटने के लिये एनडीआरएफ की 6 टीमों एवं एसडीआरएफ की 2 टीमों को 60 मोटरबोट के साथ लगाया गया है. जल-जमाव के कारण अपने घरों में फंसे हुए लागों को एनडीआरएफ और एसडीआरएफ टीमों के सहयोग से सुरक्षित स्थानों पर ले जाया जा रहा है. 

बीजेपी के सांसद पटना में बाढ़ पीड़ितों से मिलने पहुंचे, खुद डूबते-डूबते बचे; देखें VIDEO

Newsbeep

बता दें, अब तक कुल 69,752 आबादी को निष्क्रमित किया गया है. 361 मरीजों एवं 31 गर्भवती महिलाओं को सुरक्षित निकालकर अस्पताल पहुँचाया गया है. पटना शहर के जल-जमाव वालं क्षेत्रों में प्रभावितों के बीच वायुसेना के दो हेलिकॉप्टर से फूड पैकेट्स गिराये जाने का सिलसिला आज भी जारी रहा. फूड पैकेट में चुड़ा, गुड़, मोमबत्ती, दीया-सलाई, पानी का बोतल एवं आलू शामिल हैं. लगभग 7,500 फूड पैकेट गिराया गया है. इसके अलावा पटना जिला प्रशासन के द्वारा पेयजल, फूड पैकेट एवं दुग्ध का वितरण भी कराया जा रहा है तथा 02 स्थानों पर निःशुल्क सामुदायिक रसोई का संचालन किया जा रहा है. पटना जिला प्रशासन द्वारा अब तक 13,450 पानी का बोतल, 15,000 दूध का पैकेट एवं 13,520 फूड पैकेट का वितरण किया जा चुका है. स्वास्थ्य विभाग द्वारा जल-जमाव वाले क्षेत्रों में चिकित्सा व्यवस्था के लिए 20 चिकित्सा दलों को एम्बुलेंस एवं जीवन रक्षक दवाओं के साथ प्रतिनियुक्त किया गया है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO : नीतीश को करना पड़ा विरोध का सामना



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)