NDTV Khabar

पचेको की सजा माफी की अपील का गोवा सरकार ने किया समर्थन, कहा-थप्पड़ मारना मामूली घटना

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पचेको की सजा माफी की अपील का गोवा सरकार ने किया समर्थन, कहा-थप्पड़ मारना मामूली घटना

गोवा के उपमुख्यमंत्री फ्रांसिस डि'सूजा (फाइल फोटो)

पणजी:

बिजली विभाग के एक जूनियर इंजीनियर को थप्पड़ मारने के चर्चित मामले में सजा पाए गोवा के पूर्व मंत्री फ्रांसिस्को मिकी पचेको को माफ किए जाने के गोवा सरकार की राज्यपाल से की गई अपील का आम आदमी पार्टी के नेताओं ने विरोध किया है।

पचेको ने राज्यपाल के पास अपनी सजा को माफ किए जाने की अपील की है। इस पर राज्यपाल ने राज्य की सरकार ने राय मांगी थी। इस पर राय में राज्य के उपमुख्यमंत्री फ्रांसिस डिसूजा ने जहां अपील में इसे (थप्पड़ मारने की घटना) को एक मामूली घटना करार दिया है और कहा कि ऐसे मामले में सुधार का प्रयास किया जाना चाहिए न कि सजा का प्रावधान होना चाहिए।

वहीं, आम आदमी पार्टी के नेताओं का कहना है कि पचेको को छह महीने की सजा दी गई थी और उसने फिलहाल दो महीने की जेल में बिताए हैं।

टिप्पणियां

बता दें मडगांव की एक स्थानीय अदालत में 1 जून को पचेको ने सरेंडर कर दिया था।
 
नुवेम विधानसभा सीट से गोवा विकास पार्टी के विधायक पचेको इस मामले में दोषसिद्धि पर उच्चतम न्यायालय की मुहर लगने के बाद गायब हो गए थे।
 
विधायक को साल 2006 में बिजली विभाग के जूनियर इंजीनियर कपिल नाटेकर को थप्पड़ मारने के मामले में छह महीने कैद की सजा सुनाई गई थी और मुजरिम करार दिए जाने के बाद उन्हें ग्रामीण विकास मंत्रालय से इस्तीफा भी देना पड़ा था।
 
उच्चतम न्यायालय में न्यायमूर्ति एफ. एम. कलीफुल्ला और न्यायमूर्ति शिवकीर्ति सिंह की पीठ ने उच्च न्यायालय के 17 जुलाई 2014 के फैसले के विरुद्ध पचेको की विशेष अनुमति याचिका अप्रैल में खारिज कर दी थी। पचेको उसके बाद से फरार थे।


इससे पूर्व उच्च न्यायालय की गोवा पीठ ने पुनरीक्षा अदालत के फैसले को पलट दिया था, जिसने विधायक के खिलाफ लगाई गई धारा 353 (सरकारी कर्मचारी को कर्तव्य से विमुख करने के लिए उसपर हमला करना) को हलकी धारा 323 (चोट पहुंचाना) में बदलकर विधायक को आपराधिक अधिनियम परीविक्षा के तहत ‘चेतावनी’ देकर रिहा करने का आदेश दिया था।
 
उच्च न्यायालय ने विधायक को सरेंडर करने के लिए दो हफ्ते का समय दिया था और निचली अपीलीय अदालत के फैसले को बरकरार रखते हुए उसे छह महीने की कैद और 1500 रुपये जुर्माने से दंडित किया।
 
उल्लेखनीय है कि सरकार के बिजली विभाग के जूनियर इंजीनियर कपिल नाटेकर ने तत्कालीन मंत्री पचेको के खिलाफ 15 जुलाई 2006 को प्राथमिकी दर्ज कराई थी।
 
घटनाक्रम के अनुसार, नाटेकर को मंत्री के कार्यालय में बुलाया गया था क्योंकि एक दिन पहले विधायक के निजी सहायक के फोन को कथित रूप से अटैंड नहीं किया गया था। इंजीनियर का आरोप है कि मंत्री के कक्ष में उसके साथ गाली गलौच की गई और उसे थप्पड़ मारा गया।
 
मडगांव में न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत ने विधायक को एक साल की कैद और 5,000 रुपये जुर्माने की सजा दी थी, जिसे अपीलीय अदालत ने घटाकर 6 माह की कैद और 1500 रुपये के जुर्माने में बदल दिया था।



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement