NDTV Khabar

जहरीली धुंध आज भी छाई, दिल्ली को प्रदूषण से जल्द मुक्ति मिलने के आसार नहीं

स्वांस संबधी रोगों सहित कई बीमारियों का कारण बनी जहरीली धुंध, शहर में ट्रैफिक बुरी तरह प्रभावित

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जहरीली धुंध आज भी छाई, दिल्ली को प्रदूषण से जल्द मुक्ति मिलने के आसार नहीं

प्रतीकात्मक फोटो.

खास बातें

  1. दृश्यता घटने से सड़कों पर वाहन चालक परेशान
  2. धुंध अगले 48 घंटे तब बने रहने की आशंका जताई गई
  3. शहर में वाहन पार्किंग शुल्क चार गुना बढ़ाने की घोषणा
नई दिल्ली:

राजधानी को जल्द ही प्रदूषण से मुक्ति मिलने के आसार नहीं हैं. मौसम विज्ञानियों के मुताबिक शुक्रवार को भी शहर को जहरीली धुंध का सामना करना पड़ सकता है. जहरीली धुंध जहां स्वांस संबधी रोग सहित कई बीमारियों के बढ़ने का कारण बनी हुई है वहीं इसने शहर में ट्रैफिक को भी बुरी तरह प्रभावित कर रखा है.   

दिल्ली में गुरुवार को लगातार तीसरे दिन घनी धुंध छाई रही. मौसमविदों ने शुक्रवार को भी इसी तरह के हालात बने रहने का अनुमान जताया है. गुरुवार को तड़के दृश्यता का स्तर 200 मीटर था लेकिन शाम साढ़े पांच बजे के बाद यह बढ़कर 800 मीटर हो गया.

यह भी पढ़ें : पॉल्यूशन की चपेट में दिल्ली : उत्तर भारत के कई अन्य शहरों का भी बुरा हाल


टिप्पणियां

एक मौसम अधिकारी ने बताया कि शहर में अधिकतम तापमान सामान्य से एक डिग्री सेल्सियस अधिक 30.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. आर्द्रता का स्तर 98 और 31 प्रतिशत के बीच दर्ज किया गया. मौसमविद ने शुक्रवार को सुबह कुछ इलाकों में हल्की धुंध छाये रहने लेकिन कुछ अन्य इलाकों में घनी धुंध होने का अनुमान जताया है. मौसम अधिकारी ने बताया, अधिकतम और न्यूनतम तापमान क्रमश: 30 और 14 डिग्री सेल्सियस के बीच बने रहने का अनुमान है.

VIDEO : फिर से बचाव का उपाय
इस सप्ताह राष्ट्रीय राजधानी में घनी धुंध छाई हुई है जिसके कारण अधिकारियों ने रविवार तक स्कूलों को बंद रखने और कुछ उपायों की श्रृंखला के तहत पार्किंग शुल्क चार गुना बढ़ाने की घोषणा की है. गुरुवार को लगातार तीसरे दिन दिल्ली में ‘प्रदूषण आपातकाल’ की स्थिति बनी रही. धुंध की विषाक्त चादर ने शहर को ढंक लिया है. यह स्थिति अगले 48 घंटे तब बने रहने की आशंका जताई गई है.
(इनपुट भाषा से)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement