स्मृति ईरानी ने कांग्रेस पर साधा निशाना, पूछा-उनको बताना चाहिए, कब तक वीर सावरकर का...

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी (Smriti Irani) ने शुक्रवार को कांग्रेस (Congress) से सवाल किया कि वह कब तक वीर सावरकर (Veer Savarkar) के "बलिदानों का अपमान" करती रहेगी.

स्मृति ईरानी ने कांग्रेस पर साधा निशाना, पूछा-उनको बताना चाहिए, कब तक वीर सावरकर का...

Smriti Irani ने सवाल किया कि कांग्रेस वीर सावरकर के "अपमान को जन्मसिद्ध अधिकार" क्यों मानती है

खास बातें

  • कांग्रेस पर भड़कीं बीजेपी सांसद स्मृति ईरानी
  • पूछा- कांग्रेस बताएं कि वह तक सावरकर का अपमान करती रहेगी
  • कहा- कांग्रेस को सभी देशभक्तों का जवाब देना होगा
नई दिल्ली :

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी (Smriti Irani) ने शुक्रवार को कांग्रेस (Congress) से सवाल किया कि वह कब तक वीर सावरकर (Veer Savarkar) के "बलिदानों का अपमान" करती रहेगी. साथ ही उन्होंने कहा कि विपक्षी कांग्रेस को महाराष्ट्र के लोगों और देश के सभी देशभक्तों को यह जवाब देना होगा. ईरानी (Smriti Irani) ने दिल्ली बीजेपी दफ्तर में कहा, "महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ गठबंधन में शामिल कांग्रेस को मराठी लोगों और देश के सभी देशभक्तों को जवाब देना होगा कि वीर सावरकर (Veer Savarkar) के बलिदानों का अपमान कब तक जारी रहेगा." उन्होंने यह भी सवाल किया कि कांग्रेस वीर सावरकर (Veer Savarkar) के "अपमान को जन्मसिद्ध अधिकार" क्यों मानती है. 

कांग्रेस सेवादल ने सावरकर को कहा 'समलैंगिक', शिवसेना बोली- उनके खिलाफ बोलने वालों के दिमाग में गंदगी भरी है

ईरानी (Smriti Irani) ने आगामी विधानसभा चुनावों के लिए पार्टी के घोषणापत्र का मसौदा तैयार करने की खातिर दिल्ली के लोगों की प्रतिक्रिया लेने के लिए पार्टी की दिल्ली इकाई के प्रमुख मनोज तिवारी सहित अन्य नेताओं के साथ भाजपा के "मेरी दिल्ली मेरा सुझाव" अभियान की शुरुआत की. 

कांग्रेस सेवादल की किताब में छपा- नाथूराम गोडसे और वीर सावरकर के बीच समलैंगिक संबंध थे

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

आपको बता दें कि कांग्रेस सेवादल द्वारा भोपाल में आयोजित किए गए 10-दिवसीय प्रशिक्षण शिविर के दौरान वितरित की गई 'वीर सावरकर, कितने वीर' सावरकर के बारे में ही है. इसमें महात्मा गांधी की हत्या, नाथूराम गोडसे और सावरकर का ज़िक्र करते हुए दावा किया गया है कि नाथूराम गोडसे और सावरकर के बीच समलैंगिक संबंध थे. इस पुस्तिका में कई अन्य किताबों के हवाले से कई दावे किए गए हैं. डॉमिनिक लैपिएर और लैरी कॉलिन की किताब 'फ्रीडम एट मिडनाइट' का जिक्र करते हुए इसमें लिखा है, "ब्रह्मचर्य धारण करने से पहले नाथूराम गोडसे के एक ही शारीरिक संबंध का ब्योरा मिलता है, जो समलैंगिक संबंध थे... उनका पार्टनर था उनका राजनैतिक गुरु वीर सावरकर..."

Video: राहुल गांधी के बयान पर शिवसेना हुई नाराज, कहा- वीर सावरकर का अपमान न करें