जयपुर के SMS अस्पताल में डॉक्टर ने मरीज को पीटा, सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा मारपीट का VIDEO

राजस्थान (Rajasthan) के सबसे बड़े अस्पताल सवाई मान सिंह हॉस्पिटल (SMS Hospital) में मरीज की पिटाई करते डॉक्टर का वीडियो सोशल मीडिया पर हुआ वायरल.

जयपुर के SMS अस्पताल में डॉक्टर ने मरीज को पीटा, सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा मारपीट का VIDEO

जयपुर में SMS अस्पताल में डॉक्टर ने की मरीज की पिटाई.

नई दिल्ली:

हमें अक्सर सुनने और देखने को मिलता है कि मरीज के घरवालों ने डॉक्टर की पिटाई कर दी. अस्पताल प्रशासन और डॉक्टर कथित रूप से लापरवाही बरतने के चलते अक्सर मरीजों के परिजनों के कोपभाजन का शिकार होते दिखते हैं, लेकिन ताजा मामला इससे बिल्कुल उल्टा है. सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें डॉक्टर मरीज को बेतरतीब पीटते नजर आ रहे हैं. वीडियो राजस्थान (Rajasthan) के सबसे बड़े अस्पताल सवाई मान सिंह हॉस्पिटल (SMS Hospital) का है.

सोशल मीडिया वायरल हुए वीडियो में एक जयपुर स्थित एसएमएस अस्पातल में रेजिंडेंट डॉक्टर मरीज के बेड पर चढ़कर उसके साथ बेरहमी से मारपीट करता हुआ दिख रहा है. न्यूज एजेंसी ANI ने वीडियो को शेयर करते हुए इसे जयपुर के सवाई मान सिंह अस्पताल का बताया. राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने बताया कि हमने इसकी रिपोर्ट मंगवाई है कि वास्तव में क्या हुआ होगा. बता दें कि यह घटना रविवार की है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

उधर, राजस्थान मानवाधिकार आयोग ने अस्पताल प्रशासन को 25 जून तक रिपोर्ट पेश करने के निर्देश दिए हैं. अस्पताल प्रशासन के अनुसार, जयपुर के चांदपोल बाजार इलाके में रहने वाले उत्तरप्रदेश निवासी मुबारिक (30) को अज्ञात जहर खाने और पेट संबंधी बीमारी के कारण एक जून को अस्पताल में भर्ती कराया गया था. मरीज की जांच के लिए एक महिला चिकित्सक द्वारा खून लेने के दौरान मरीज ने हिंसक बर्ताव किया और उसने चिकित्सक के साथ मारपीट की. जब एक अन्य पुरुष चिकित्सक और मरीज के परिजनों के बीच बचाव करने की कोशिश की तो उसने उन पर भी हाथ उठा दिया.

अस्पताल के अधीक्षक डॉ. डी एस मीणा ने बताया कि सोशल मीडिया पर वायरल हुए वीडियो में संभवत: काट छांट की गई है. मामले की जांच अस्पताल की अनुशासन समिति करेगी और अस्पताल प्रशासन अपनी रिपोर्ट राजस्थान मानवाधिकार आयोग को भी देगा. उन्होंने बताया कि मरीज की हालत ठीक है और उसे जल्द ही अस्पताल से छुट्टी दे दी जाएगी. मामले का संज्ञान लेते हुए राजस्थान मानवाधिकार आयोग ने इसे एक गंभीर अपराध माना है, जिसमें एक मरीज की अन्य मरीजों के सामने पिटाई की गई. इस संबंध में आयोग ने अस्पताल प्रशासन से 25 जून तक रिपोर्ट पेश करने को कहा है.