कोरोनावायरस से लड़ाई में सोशल डिस्टेंसिंग ही सोशल वैक्सीन है : केंद्र सरकार

Coronavirus in India : भारत में कोरोनावायरस  (Coronavirus) महामारी का प्रकोप दिन-प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है. इस संक्रमण से लोगों के पास बचने का सबसे बड़ा हथियार इस वक्त...

कोरोनावायरस से लड़ाई में सोशल डिस्टेंसिंग ही सोशल वैक्सीन है : केंद्र सरकार

Coronavirus : केंद्र सरकार का कहना - सोशल डिस्टेंसिंग ही सोशल वैक्सीन - प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली:

Coronavirus in India : भारत में कोरोनावायरस  (Coronavirus) महामारी का प्रकोप दिन-प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है. इस संक्रमण से लोगों के पास बचने का सबसे बड़ा हथियार इस वक्त सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) ही है, जिस पर केंद्र सरकार भी जोर दे रही है. केंद्र सरकार (Central Government) की ओर से रोजाना स्वास्थ्य मंत्रालय प्रेस ब्रीफ देकर जानकारियां दे रहा है. गुरुवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा गया कि कोरोनावायरस से लड़ाई में सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) ही सोशल वैक्सीन है.

स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव राजेश भूषण (Rajesh Bhusan), जॉइंट सेक्रेटरी लव अग्रवाल, ICMR के डीजी डॉ. बलराम भार्गव मौजूद रहे. राजेश भूषण ने बताया कि भारत दुनिया में दूसरा सबसे ज़्यादा कुल टेस्ट करने वाला देश बन गया है. कल एक दिन में सबसे ज़्यादा 68,584 लोग ठीक भी हुए.

स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव राजेश भूषण ने कहा, ''पिछले 24 घंटे में COVID-19 के लिए 11.72 लाख टेस्ट हुए हैं, जोकि अब तक की 24 घंटे में सबसे ज्यादा टेस्ट करने का रिकॉर्ड भी है. रिकवर केस एक्टिव से साढ़े तीन गुना से ज़्यादा हैं. 

भारत में पिछले 24 घंटे में सबसे ज़्यादा 83,883 COVID-19 केस, कोरोनावायरस से 1,043 की मौत

कोरोनावायरस के प्रभावित वाले राज्यों की जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि पांच राज्यों में 62% एक्टिव केस है. जिसमें सबसे ज्यादा महाराष्ट्र  24.77 फीसद और दूसरे स्थान पर आंध्र प्रदेश 12.64 फीसदी है. जबकि तीसरे, चौथे और पांचवे नंबर पर कर्नाटक, तमिल नाडु और उत्तर प्रदेश राज्य है. यदि वीकली बेसिस पर देखें तो, इन 5 राज्यों में एक्टिव केस कम भी हुए हैं.

देश में पांच राज्य महाराष्ट्र, तमिलनाडु, कर्नाटक, दिल्ली और आंध्र प्रदेश में सबसे ज़्यादा मौत हुई हैं. कुल मौत का 70% इन 5 राज्यों से से ही है. साप्ताहिक आधार पर देखें तो आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र और तमिलनाडु में मौत की रफ़्तार कम हुई है. जबकि दिल्ली और कर्नाटक में बढ़ी है.

हेल्थ सेक्रेटरी राजेश भूषण से ज़्यादा RAT और कम RT-PCR टेस्ट होने के सवाल पर कहा, ''मैं मानता हूं कि कुछ राज्य अपनी क्षमता से कम RT-PCR टेस्ट कर रहे हैं. हम उनके साथ संपर्क हैं और उनको RT-PCR टेस्ट बढ़ाने को बोल रहे हैं.''

COVID-19 का फायदा उठाने में जुटा चीन, भारत इसका उदाहरण : अमेरिकी डिप्लोमेट

Newsbeep

राजेश भूषण ने कहा, ''कुछ राज्यों में हेल्थ केअर वर्कर्स ज़्यादा संक्रमित हो रहे हैं. तेलंगाना में 18%, दिल्ली में 14%, महाराष्ट्र में 16%, पंजाब में 11%, कर्नाटक में 13% और पुड्डुचेरी में 12% हेल्थ केअर वर्कर्स का पाजिटिविटी रेट है. इन राज्यों से कह रहे हैं कि हॉस्पिटल में प्रोटोकॉल और SOPs का पालन हो रहा है या नहीं इसपर ध्यान दें.''

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बताते चले कि स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) की ओर से आज जारी आंकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटों यानी एक दिन में 83,883 नए COVID-19 मामले हैं. इस दौरान, टेस्टिंग (Testing) बढ़ाने पर भी जोर दिया गया है. 2 सितंबर यानी बुधवार को कुल 11,72,179 नमूनों की जांच की गई है. 2 सितंबर तक कुल जांचों का आंकड़ा 4,55,09,380 पर पहुंच गया है.