NDTV Khabar

एकांत कारावास को उच्च न्यायालय ने असंवैधानिक बताया

अदालत ने आगे कहा कि यह परंपरा न केवल अतिरिक्त सजा के समान है बल्कि अत्याचार के बराबर है और बुनियादी मानवाधिकारों का उल्लंघन है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
एकांत कारावास को उच्च न्यायालय ने असंवैधानिक बताया

प्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली: उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने एकांत कारावास को असंवैधानिक घोषित कर दिया है. निचली अदालत द्वारा दो दोषियों को दी गई फांसी की सजा को बरकरार रखते हुए न्यायमूर्ति राजीव शर्मा और न्यायमूर्ति आलोक सिंह की खंडपीठ ने कहा कि कैदियों के साथ होने वाले व्यवहार के लिए संयुक्त राष्ट नियमों में स्पष्ट है कि एकांत कारावास का प्रयोग केवल अपवाद मामलों में अंतिम विकल्प के रूप में किया जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि इसे केवल कैदियों की सजा के आधार पर लागू नहीं किया जाना चाहिए. अदालत ने आगे कहा कि यह परंपरा न केवल अतिरिक्त सजा के समान है बल्कि अत्याचार के बराबर है और बुनियादी मानवाधिकारों का उल्लंघन है.

यह भी पढ़ें: जजों की नियुक्ति पर अंतिम फैसले का अधिकार कॉलेजियम को : सोली सोराबजी

गौरतलब है कि एक 55 वर्षीय महिला से गैंगरेप और हत्या से संबंधित एक मामले में अदालत ने ये टिप्पणियां कीं. हालांकि, अदालत ने इस मामले में फांसी की सजा को बरकरार रखा. अदालत ने कहा कि उत्तर प्रदेश कारावास नियमों में कहा गया है कि वार्डन अधिकारियों के अलावा किसी व्यक्ति को दोषियों से बात करने की अनुमति नहीं होगी और दोषी को दिन के 23 घंटे अकेले रहना होगा. इससे दोषी को बेहद दर्द, कष्ट और बेचैनी होती है और यह भारत के संविधान का उल्लंघन है.

टिप्पणियां
यह भी पढ़ें: जस्टिस केएम जोजफ की नियुक्ति नहीं तो और सिफारिश नहीं : कांग्रेस

विकास नगर निवासी अनिल चौहान ने वर्ष 2012 दिसंबर में शिकायत दर्ज कराई थी कि उनकी मां बकरियां लेकर चराने गई थीं लेकिन वापस नहीं लौटी. बाद में उनकी मां का शव नदी के किनारे झाडि़यों में पड़ा मिला. जांच के दौरान दोषियों को पकड़ा गया और देहरादून के विशेष न्यायाधीश ने उन्हें मौत की सजा सुनाई. निचली अदालत के इस आदेश को उच्च न्यायालय में चुनौती दी गई जिसे उसने बरकरार रखा. (इनपुट भाषा से) 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement