NDTV Khabar

भागलपुर में 502 करोड़ का NGO घोटाला, लालू यादव ने बीजेपी नेताओं पर उठाई अंगुली

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने इस मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की है. इसके साथ ही आरोप लगाया कि इस गैर सरकारी संगठन 'सृजन' से कई बीजेपी नेताओं के घनिष्‍ठ संबंध रहे हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
भागलपुर में 502 करोड़ का NGO घोटाला, लालू यादव ने बीजेपी नेताओं पर उठाई अंगुली

लालू प्रसाद यादव (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. शहरी विकास के लिए भेजी गई यह राशि
  2. लेकिन यह राशि सृजन नामक एनजीओ के खातों में ट्रांसफर हुई
  3. राजद नेता ने कहा कि इस एनजीओ से बीजेपी नेताओं के घनिष्‍ठ संबंध रहे
पटना: बिहार के भागलपुर जिले में 502 करोड़ रुपया का एनजीओ घोटाला सामने आया है. इसके तहत शहरी विकास के लिए भेजी गई यह राशि गैर-सरकारी संगठन के खातों में पहुंचाई गई. अब तक इस मामले में सात लोगों को गिरफ्तार किया गया है. राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने इस मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की है. इसके साथ ही आरोप लगाया कि इस गैर सरकारी संगठन 'सृजन' से कई बीजेपी नेताओं के घनिष्‍ठ संबंध रहे हैं.

पढ़ें: सृजन घोटाला- क्‍या पूर्व जिला अधिकारियों और राजनेताओं पर हाथ डालेगी बिहार पुलिस

लालू प्रसाद ने बीजेपी नेताओं शाहनवाज हुसैन और गिरिराज सिंह जैसे नेताओं पर आरोप लगाते हुए कहा कि इन नेताओं के इस एनजीओ की संस्‍थापक मनोरमा देवी से संबंध थे. मनोरमा देवी की इसी अप्रैल में मृत्‍यु हो गई. इन दोनों नेताओं की मनोरमा देवी के साथ फोटोग्राफ भी सामने आए हैं. हालांकि राजद नेता ने अपने दावे के समर्थन में कोई दस्‍तावेज उपलब्‍ध नहीं कराया. शाहनवाज हुसैन ने सफाई देते हुए कहा था कि वह मनोरमा देवी को जानते थे लेकिन किसी भी प्रकार की गड़बड़ी के बारे में उनको कोई जानकारी नहीं थी.

पढ़ें: सृजन घोटाला : लालू बोले - सुशील मोदी पर इस आधार पर चलना चाहिए मुकदमा
 
shahnawaz and giriraj singh
शाहनवाज हुसैन और गिरिराज सिंह (फाइल फोटो)

इस मामले की प्राथमिक जांच से उजागर हुआ है कि मुख्‍यमंत्री नगर विकास योजना के तहत भूमि अधिग्रहण के लिए सरकारी बैंकों में पैसा जमा हुआ जोकि गैर-सरकारी संगठन सृजन महिला विकास सहयोग समिति के खाते में ट्रांसफर हो गया. यह संगठन वास्‍तव में उत्‍तरी बिहार के भागलपुर में स्थित है. यह जिले के विभिन्‍न ब्‍लॉक में महिलाओं के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित कराता है. यह महिलाओं को रोजगार भी उपलब्‍ध कराता है.

पढ़ें: 'सृजन घोटाला उजागर होने के बाद बिहार के स्वास्थ्य मंत्री बीमार, घर पर 4-4 डॉक्टर्स तैनात'



पुलिस के मुताबिक यह एनजीओ एक को-ऑपरेटिव बैंक भी चलाता था और आरबीआई से बैंक के लाइसेंस के लिए अप्‍लाई किया था. इस मामले में गत गुरुवार को सृजन महिला सहयोग समिति के पदाधिकारियों, बैंक के पदाधिकारी, सरकारी कर्मी (जो खाते एवं उसके दस्तावेज की देख-रेख करता था), पर प्राथमिकी दर्ज की गयी थी. अब तक कुल मिलाकर इस केस में पांच केस दर्ज हो चुके हैं. इस घोटाले के तार अन्‍य जिलों तक पहुंचने की आशंका के मद्देनजर राज्‍य सरकार ने सभी जिलों के जिलाधिकारियों को बैंकों में जमा सरकारी धन की पड़ताल करने को कहा है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement