NDTV Khabar

डोकलाम पर सरकार ने कहा, यथास्थिति अब भी बरकरार

विदेश मंत्रालय ने कहा कि डोकलाम में यथास्थिति में कोई बदलाव नहीं किया गया है जहां पिछले साल करीब दो महीने तक भारत और चीन के सैनिकों के बीच गतिरोध की स्थित बनी रही थी.

102 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
डोकलाम पर सरकार ने कहा, यथास्थिति अब भी बरकरार

डोकलाम पर सरकार ने कहा, यथास्थिति अब भी बरकरार (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. दो महीने तक भारत और चीन के सैनिकों के बीच गतिरोध की स्थित बनी रही
  2. हमारा ध्यान कुछ खबरों की ओर गया जो डोकलाम में हालात के संबंध में है: रवीश
  3. रवीश ने कहा, सरकार पर लगे आरोपों का कोई आधार नहीं है
नई दिल्ली: केंद्र सरकार ने कहा है कि डोकलाम पर स्थिति में कोई बदलाव नहीं हुआ है. कूटनितिक कोशिशों की वजह से दोनों देशों की सेना जहां पर लौटी थीं, वहीं पर हैं.  विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार से जब पूछा गया कि क्या चीन ने फिर से इस इलाके में कोई गतिविधि शुरू की है. इसके जवाब में उन्होंने कहा कि यथास्थिति कायम है. 

डोकलाम में चीन द्वारा सैन्य शिविर बनाने के आरोपों का भारत सरकार ने किया खंडन

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने इस तरह की धारणाओं को खारिज करते हुए कहा, ‘‘हमारा ध्यान कुछ खबरों की ओर गया है जो डोकलाम में हालात के संबंध में सरकार की ओर से बताई गयी स्थिति की सटीकता पर सवाल खड़ा करती हैं.’’ उन्होंने कहा कि गतिरोध वाली जगह पर यथास्थिति में किसी तरह के बदलाव के बारे में बार-बार पूछे गये सवालों के जवाब में सरकार कह चुकी है कि इस तरह के आरोपों का कोई आधार नहीं है.

डोकलाम अब 'गंभीर समस्या' नहीं, सेना किसी भी स्थित से निपटने को तैयार : सेना प्रमुख

कुमार ने कहा, ‘‘सरकार एक बार फिर दोहराती है कि गतिरोध स्थल पर यथास्थिति में बदलाव नहीं किया गया है. इसके विपरीत कोई भी धारणा गलत और शरारतपूर्ण है.’’विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता के बयान इस तरह की खबरों की पृष्ठभूमि में आये हैं कि चीन विवादित क्षेत्र में बुनियादी ढांचे का विकास कर रहा है.

टिप्पणियां
कुमार ने यह भी कहा कि इस बात को याद किया जा सकता है कि डोकलाम क्षेत्र में उपजे गतिरोध के हालात को भारत और चीन के बीच कूटनीतिक बातचीत के बाद सुलझा लिया गया था, जिसके आधार पर दोनों पक्ष गतिरोध स्थल से अपने जवानों को हटाने के लिए एक सहमति पर पहुंचे थे.(भाषा से इनपुट)

VIDEO: डोकलाम में चीनी जमावड़ा बढ़ा
 
दरअसल पिछले साल डोकलाम में 73 दिनों तक भारत और चीन की सेना आमने सामने थी. भारत चीन की तरफ से डोकलाम में सड़क बनाने का विरोध कर रहा था. हालांकि दोनों देशों की बातचीत के बाद सेना एक-दूसरे के सामने से हट गईं थी.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement