NDTV Khabar

भारत में 2020 तक रोजाना 775.5 टन मेडिकल अपशिष्ट पैदा होगा: स्टडी

भारत में 2020 तक प्रतिदिन 775.5 टन मेडिकल अपशिष्ट पैदा हो सकता है. इस समय रोजाना 550.9 टन अपशिष्ट उत्सर्जित होता है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
भारत में 2020 तक रोजाना 775.5 टन मेडिकल अपशिष्ट पैदा होगा: स्टडी

प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली: भारत में 2020 तक प्रतिदिन 775.5 टन मेडिकल अपशिष्ट पैदा हो सकता है. इस समय रोजाना 550.9 टन अपशिष्ट उत्सर्जित होता है. यह जानकारी औद्योगिक संगठन एसोचैम और वेलोसेटी के एक संयुक्त अध्ययन से सामने आयी है. गुरुवार को जारी अध्ययन में बताया गया है कि हर साल उत्सर्जित होने वाले मेडिकल अपशिष्ट में सात प्रतिशत उछाल आने की संभावना है. 

‘अनअर्थिंग द ग्रोथ कर्व एंड नसेसिटी ऑफ बायो मेडिकल वेस्ट मैनेजमेंट इन इंडिया 2018’ नामक अध्ययन में कचरे के सुरक्षित और प्रभावी प्रबंधन सुनिश्चित करने के लिए कड़े निगरानी और मूल्यांकन ढांचे के जरूरत पर जोर दिया गया है.

केंद्र ने राजधानी में कूड़े के संकट से निपटने के लिए बनाई 300 करोड़ की योजना

दिल्ली सरकार में स्वास्थ्य सेवा के महानिदेशक डॉक्टर कृति भूषण ने कहा, ‘अपशिष्ट का सुरक्षित और प्रभावी प्रबंधन ना केवल कानूनी जरूरत है बल्कि एक सामाजिक दायित्व भी है. चिंता, प्रोत्साहन, जागरूकता की कमी और लागत कुछ ऐसे तथ्य हैं जिसके कारण उचित बायोमेडिकल अपशिष्ट प्रबंधन में समस्याओं का सामना करना पड़ता है.’ 

सिंचाई में दूषित पानी का इस्तेमाल, लाखों लोगों के स्वास्थ्य पर पड़ता है बुरा असर

भारत में 2025 तक अपशिष्ट प्रबंधन का बाजार 136.20 करोड़ अमेरिकी डॉलर तक पहुंच जाने की संभावना है. अध्ययन के मुताबिक चिकित्सा अपशिष्ट के खराब प्रबंधन के कारण स्वास्थ्य को खतरा हो सकता है. साथ ही इसके कारण विकासशील देशों में पर्यावरण विशेषकर जल, वायु और मिट्टी सहित प्रदूषण पर भी विचार किया जाना चाहिए. 

टिप्पणियां
VIDEO: गोवा सरकार दो साल से सफाई पर काफी काम कर रही है : सीएम

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement