ऑक्सफोर्ड COVID-19 वैक्सीन को भारत के लिए एक्सपर्ट पैनल की तरफ से हरी झंडी : सूत्र

पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) ने COVISHIELD के उत्पादन के लिए एस्ट्रेजेनेका के साथ करार किया है. SII दुनिया की सबसे बड़ी टीका निर्माता कंपनी है.

ऑक्सफोर्ड COVID-19 वैक्सीन को भारत के लिए एक्सपर्ट पैनल की तरफ से हरी झंडी : सूत्र

सीरम इंस्‍टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा निर्मित वैक्‍सीन को अब मंजूरी के लिए DCGI को भेजा जाएगा

खास बातें

  • अब DCGI करेगी इस बारे में अंतिम निर्णय
  • सीरम इंस्‍टीट्यूट बना रहा भारत में वैक्सीन 'कोविशिल्ड'
  • नवंबर में PM ने वैक्‍सीन की जानकारी लेने पुणे और हैदराबाद का किया था दौरा
नई दिल्ली:

COVID-19 Vaccine: सरकार की ओर से नियुक्‍त पैनल ने सीरम इंस्‍टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा निर्मित ऑक्‍सफोर्ड कोविड-19 वैक्‍सीन के लिए मंजूरी की सिफारिश की है. सूत्रों ने यह जानकारी देते हुए बताया कि इसे मंजूरी के लिए अब ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) को भेजा जाएगा. सूत्रों ने बताया कि सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमेटी ने सीरम इंस्टीट्यूट आफ इंडिया को COVISHIELD के इस्तेमाल के लिए मंजूरी की सिफारिश की हैं. अब ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) इस बारे में अंतिम फ़ैसला करेंगे.सब्जेक्ट एक्सपर्ट की बैठक करीब 9 घंटे तक चली.

Coronavirus Vaccine Dry Run: पूरे भारत में एक साथ कोरोना वैक्सीन का ड्राई रन कल से होगा शुरू

गौरतलब है कि पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) ने COVISHIELD के उत्पादन के लिए एस्ट्रेजेनेका के साथ करार किया है. SII दुनिया की सबसे बड़ी टीका निर्माता कंपनी है. ब्रिटेन की मेडिसिन्स एंड हेल्थकेयर प्रोडक्ट्स रेगुलेटरी एजेंसी (एमएचआरए) ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में वैज्ञानिकों द्वारा विकसित तथा एस्ट्रेजेनेका द्वारा निर्मित टीके को बुधवार को मंजूरी प्रदान की थी. सीडीएससीओ की कोविड-19 पर विषय विशेषज्ञ समिति (एसईसी) ने बुधवार को टीके के आपात उपयोग की मंजूरी देने के एसआईआई के आवेदन पर विचार किया था और इस मामले में शुक्रवार को एक बार फिर समीक्षा की. सीडीएससीओ ने एसआईआई से पहले अतिरिक्त सुरक्षा और प्रतिरक्षा संबंधी जानकारी मांगी थी. 

सूत्रों ने बताया कि SII के आवेदन के बाद समिति ने भारत बायोटेक के कोविड-19 रोधी टीके कोवैक्सीन के आपात उपयोग की मंजूरी देने की उसकी अर्जी पर विचार करना भी शुरू किया है लेकिन इस मामले में अभी अंतिम निर्णय नहीं लिया गया है.आपात उपयोग की मंजूरी (ईयूए) के आवेदन पर एसआईआई में सरकार और नियामक मामलों के अतिरिक्त निदेशक प्रकाश कुमार सिंह के हस्ताक्षर हैं जिसमें कहा गया है, ‘‘सुरक्षा के लिहाज से देखें तो COVISHIELD ने अपेक्षित प्रतिकूल स्थितियों में अच्छा प्रदर्शन किया. अधिकतर अपेक्षित प्रतिक्रियाएं गंभीरता के लिहाज से बहुत मामूली थीं और उन्हें सुलझा लिया गया तथा कोई अन्य लक्षण नहीं दिखाई दिए.''आवेदन के अनुसार, ‘‘इसलिए COVISHIELD सुरक्षित है और लक्षित जनसंख्या पर कोविड-19 की रोकथाम के लिए इसका प्रभावी तरीके से इस्तेमाल किया जा सकता है.''एसआईआई ने ऑक्सफोर्ड के टीके के आपात उपयोग की मंजूरी के लिए छह दिसंबर को भारत के औषध महानियंत्रक (डीसीजीआई) को आवेदन किया था, वहीं हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक ने सात दिसंबर को आपने स्वदेश विकसित कोवैक्सीन टीके की मंजूरी के लिए अर्जी दाखिल की थी. फाइजर कंपनी ने अपने टीके को नियामक मंजूरी देने के लिए चार दिसंबर को आवेदन किया था.

देश मे कोरोना वायरस के यूके स्ट्रेन के सामने आए 4 और मामले, मरीजों की कुल संख्या हुई 29

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नवंबर 2020 को हैदराबाद और पुणे का दौरा कर कोरोना वैक्‍सीन से संबंधित प्रगति की समीक्षा की थी. चार दिसंबर को आयोजित सर्वदलीय बैठक में पीएम ने उम्‍मीद जताई थी कि कोविड-19 वैक्‍सीन अगले कुछ सप्‍ताह में तैयार हो सकती है. (भाषा से भी इनपुट)


ऑक्सफोर्ड की कोरोना वैक्सीन को ब्रिटेन में मंजूरी

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com