सुब्रह्मण्यम स्वामी की मांग, कांग्रेस की मान्यता रद्द करे चुनाव आयोग

सुब्रह्मण्यम स्वामी की मांग, कांग्रेस की मान्यता रद्द करे चुनाव आयोग

खास बातें

  • एसोसिएटेड जर्नल्स लिमिटेड को ऋण देने पर जनता पार्टी अध्यक्ष सुब्रह्मण्यम स्वामी ने निर्वाचन आयोग को कांग्रेस की मान्यता रद्द करने का ज्ञापन सौंपा। उधर, कांग्रेस ने कहा कि जवाहर लाल नेहरू द्वारा स्थापित समाचार पत्र नेशनल हेराल्ड के प्रकाशक एसोसिएटेड जर्नल्
नई दिल्ली:

एसोसिएटेड जर्नल्स लिमिटेड को ऋण देने पर जनता पार्टी अध्यक्ष सुब्रह्मण्यम स्वामी ने निर्वाचन आयोग को कांग्रेस की मान्यता रद्द करने का ज्ञापन सौंपा। उधर, कांग्रेस ने कहा कि जवाहर लाल नेहरू द्वारा स्थापित समाचार पत्र नेशनल हेराल्ड के प्रकाशक एसोसिएटेड जर्नल्स लिमिटेड को ऋण देना एक भावनात्मक मुद्दा था।

इस बीच, इंडियन अगेंस्ट करप्शन (आईएसी) के सदस्य अरविंद केजरीवाल एवं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने ऋण मामले की जांच की मांग की।

कांग्रेस महासचिव जनार्दन द्विवेदी ने शनिवार को कहा, "हमारे लिए यह एक भावनात्मक मुद्दा है। केवल कांग्रेस ही निर्णय करेगी कि उसके लिए क्या राजनीतिक है और क्या नहीं?"

कांग्रेस द्वारा एसोसिएटेड जर्नल्स लिमिटेड को ऋण देने की बात स्वीकार करने के एक दिन बाद स्वामी ने शनिवार को मान्यता रद्द करने के लिए निर्वाचन आयोग को ज्ञापन सौंपा।

स्वामी ने ज्ञापन में कहा, "यह ऋण उन नियमों एवं दिशा निर्देशों का उल्लंघन है, जिसका पालन राजनीतिक दलों के पंजीयन एवं मान्यता जारी रखने के लिए आवश्यक है। आयकर अधिनियम (1961) की धारा 13ए और आरपीए (1951) अधिनियम की धारा 29ए से 29सी के अनुसार कोई भी राजनीतिक पार्टी किसी भी कम्पनी को ब्याज या ब्याज मुक्त ऋण नहीं दे सकती है।" उन्होंने याचिका में कहा, "कांग्रेस ने निर्वाचन कानून एवं आयकर कानून के तहत प्रथम दृष्टया अपराध स्वीकार कर लिया है। इसलिए यह जरूरी हो गया है कि आप मामले की सुनवाई करें। इसलिए निर्वाचन आयोग को अखिल भारतीय कांग्रेस पार्टी के चुनाव चिह्न को रद्द कर देना चाहिए।"

द्विवेदी ने शुक्रवार को स्वीकार किया था कि कांग्रेस ने इस समाचार पत्र को पुन: अपने पैरों पर खड़ा करने के लिए ब्याज मुक्त ऋण दिया था।

द्विवेदी ने कहा था, "कांग्रेस ने एसोसिएटेड जर्नल्स लिमिटेड की सहायता के लिए धन दिया था। ऐसा करके हमने अपना कर्तव्य निभाया है। यह हमारे लिए गर्व की बात है।"

प्रमुख विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने भी ब्याज मुक्त ऋण देने के मामले की जांच की मांग की और कहा कि सत्तारुढ़ दल को भ्रष्टाचार के मुद्दे पर स्पष्टीकरण देना होगा।

भाजपा प्रवक्ता निर्मला सीतारमन ने को कहा, "भाजपा स्पष्ट तौर पर मामले की जांच की मांग करती है। भाजपा की मांग है कि कांग्रेस को सच्चाई का सामना करना चाहिए और उत्तर देना चाहिए न कि नौवें या दसवें भ्रष्टाचार के मुद्दे से मुंह छिपाना चाहिए।"
केजरीवाल ने कहा, "इस मामले की जांच की आवश्यकता है।"

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

स्वामी ने गुरुवार को कहा था कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी एवं उनके पुत्र राहुल गांधी ने कम्पनी बना कर नकली एवं फर्जी सौदे द्वारा 1600 करोड़ रुपये के हेराल्ड हाउस एवं इस समूह से जुड़ी सम्पत्तियों को हथिया लिया। उन्होंने कहा, "राहुल गांधी 2008 से ही एसोसिएटेड जर्नल्स प्राइवेट लिमिटेड के अंशधारक थे लेकिन उन्होंने 2009 के लोकसभा चुनावों में इस बात का खुलासा नहीं किया।"

स्वामी ने कहा कि कांग्रेस ने एसोसिएटेड जर्नल्स प्राइवेट लिमिटेड को 90 करोड़ रुपये बतौर ऋण बिना किसी जमानत के दिए जो कानूनों का उल्लंघन है।