NDTV Khabar

चार बार नाकाम रहने के बावजूद अपराजिता चंदेल ने कैसे HPPSC की परीक्षा टॉप की, पढ़ें- पूरी कहानी

कहते हैं कि लहरों से डरने वाली किश्तियां पार नहीं लगतीं. अपराजिता चंदेल ने भी ठानी थी कि हार नहीं मानना है. अपने इसी जज्बे की बदौलत HPPSC की परीक्षा में चार बार नाकाम रहीं अपराजिता चंदेल इस बार शिखर पर पहुंच गईं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
चार बार नाकाम रहने के बावजूद अपराजिता चंदेल ने कैसे HPPSC की परीक्षा टॉप की, पढ़ें- पूरी कहानी

अपराजिता चंदेल

नई दिल्ली :
टिप्पणियां

कहते हैं कि लहरों से डरने वाली किश्तियां पार नहीं लगतीं. अपराजिता चंदेल ने भी ठानी थी कि हार नहीं मानना है. अपने इसी जज्बे की बदौलत HPPSC की परीक्षा में चार बार नाकाम रहीं अपराजिता चंदेल इस बार शिखर पर पहुंच गईं. उन्होंने नौकरी करते हुए HPPSC की परीक्षा टॉप की, जिसके चर्चे हर तरफ हैं. अपराजिता का कहना है कि नाकामी की वजह से युवा कई बार जल्दी हौसला हार जाते हैं, लेकिन हथियार डालने की जगह उन्हें हमेशा सकारात्मक ऊर्जा के साथ अपने लक्ष्य की ओर बढ़ना चाहिए. ये जरूरी है कि इस दौरान आपका ध्यान किसी दूसरी दिशा में न बंटे. 

2qts20mo

अपराजिता आत्मविश्वास को ही सफलता की असली कुंजी मानती हैं. वह अपनी पिछली नाकामियों की वजह भी अपने आत्मविश्वास की कमी को मानती हैं. अपराजिता के मुताबिक प्रतिस्पर्धा उतनी मुश्किल नहीं है, जितना मुश्किल खुद को हर हालात में सहज और सकारात्मक सोच के साथ आगे बढ़ाना. वे बताती हैं कि ‘अपने दिल और दिमाग की सुनें फिर अपना रास्ता निर्धारित करें. यदि खुद पर यकीन रखते हुए लगन से कड़ी मेहनत की जाए तो किस्मत खुद आपका साथ देती है.आप जितना ज्यादा अभ्यास करते हैं, सफलता के चांस उतने ही बढ़ जाते हैं. 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement