गोवा की सबसे पुरानी पार्टी के नेता सुदीन धावलीकर बने डिप्टी सीएम, जानिए उनके बारे में सबकुछ..

पिछले 20 सालों में कई उतार-चढ़ाव हुए लेकिन धावलीकर ने अपने दल महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी को जीवंत बनाए रखा

गोवा की सबसे पुरानी पार्टी के नेता सुदीन धावलीकर बने डिप्टी सीएम, जानिए उनके बारे में सबकुछ..

सुदीन धावलीकर गोवा के उप मुख्यमंत्री बनेंगे.

खास बातें

  • 15 साल में सरकारें बदलतीं रहीं पर सुदीन धावलीकर मंत्री बनते रहे
  • मारकेम सीट से पांच बार से विधायक चुने जा रहे हैं धावलीकर
  • 'आप' ने झूठे शपत्र पत्र का मामला दर्ज कराया था, कोर्ट में खारिज हुआ
नई दिल्ली:

प्रमोद सावंत गोवा के नए मुख्यमंत्री बन गए हैं. बताया जाता है कि सहयोगी दलों के साथ हुए समझौते के तहत बीजेपी के गठबंधन सहयोगियों के दो विधायक उप मुख्यमंत्री बन गए हैं. सावंत ने मनोहर पर्रिकर का स्थान लिया है. उनके अलावा दो उप मुख्यमंत्री गोवा फॉरवर्ड पार्टी के प्रमुख विजय सरदेसाई और महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी के विधायक सुदीन धावलीकर ने भी शपथ ली है.

सुदीन धावलीकर को सुदीन माधव धावलीकर भी कहा जाता है. गोवा में पांच बार से विधायक चुने जा रहे धावलीकर मारकेम सीट का प्रतिनिधित्व करते हैं. 62 वर्षीय धावलीकर का जन्म 21 नवंबर 1956 को हुआ था.  पार्वतीबाई चौगुले कॉलेज में शिक्षित सुदीन महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी के नेता हैं.    

प्रमोद सावंत का गोवा का सीएम बनना तय, जानिए- इस डॉक्टर और किसान के बारे में सब कुछ

 
धावलीकर पिछले 15 साल से विभिन्न सरकारों के दौरान मंत्री रहे हैं. वे पर्रिकर सरकार में मनोहर पर्रिकर के बाद दूसरे नंबर के मंत्री रहे हैं.  उनके पास पीडब्लूडी, ट्रांसपोर्ट और रिवर नेविगेशन विभाग हैं.

ब्यूनस आयर्स में जन्मे विजय सरदेसाई अब गोवा के उप मुख्यमंत्री बनेंगे, जानिए उनके बारे में

उनकी पार्टी महाराष्ट्र गोमांतक पार्टी वह राजनीतिक दल है जो सन 1961 में पुर्तगाली शासन खत्म होने के बाद सबसे पहले सत्तासीन हुई थी. पिछले 20 सालों में कई उतार-चढ़ाव हुए लेकिन धावलीकर ने अपनी पार्टी को जीवंत बनाए रखा.     

VIDEO : BJP के प्रमोद सावंत होंगे गोवा के अगले मुख्यमंत्री: सूत्र

 

 

पिछले विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी ने धावलीकर पर आरोप लगाया था कि उन्होंने चुनाव के दौरान शपथ पत्र में अपनी शैक्षणिक योग्यता झूठी दर्शाई. उनके खिलाफ आम आदमी पार्टी ने केस भी दर्ज कराया था लेकिन पोंडा कोर्ट ने फर्जी डिग्री के आरोप वाले इस केस को खारिज कर दिया था.

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com