NDTV Khabar

सुनंदा मामले की जांच पूर्वाग्रह या राजनीतिक दबाव से मुक्त होनी चाहिए : थरूर

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
नई दिल्ली: सुनंदा पुष्कर की पिछले साल राजधानी दिल्ली के पांच-सितारा होटल में हुई मौत को लेकर दिल्ली पुलिस द्वारा हत्या का मामला दर्ज किए जाने के बाद पहली बार पत्रकारों के सामने आए पूर्व केंद्रीय मंत्री शशि थरूर ने शुक्रवार को कहा कि मामले की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए, वह पूर्वाग्रह से ग्रस्त नहीं होनी चाहिए, और उस जांच पर किसी तरह का कोई राजनैतिक दबाव नहीं होना चाहिए।

शशि थरूर ने कहा कि वह पुलिस की जांच के कारण अब तक चुप रहे और उनकी चुप्पी के पीछे कोई गलत मकसद नहीं छिपा था। उन्होंने कहा कि मैं पुलिस को पूरा सहयोग दे रहा हूं।

शशि थरूर ने लंबी खामोशी तोड़ते हुए कहा कि वह यहां पब्लिक डिबेट के लिए नहीं बैठे हैं। थरूर बोले, 'मेरे और परिवार के पास ऐसा कोई कारण नहीं, जिससे हमें इस पूरे मामले में किसी तरह की गड़बड़ी की शंका हो। हर कोई सुनंदा को काफी ज्यादा प्यार करता था।'

थरूर ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस में यह भी कहा कि वह और उनका स्टाफ पुलिस को पूरा सहयोग करेंगे। उन्होंने कहा, 'मेरी खामोशी के पीछे कोई कुटिलता नहीं है। मैं पूरे साल चुप रहा। इस मामले पर पुलिस जांच कर ही थी और मैं बिल्कुल नहीं चाहता कि किसी तरह से भी पुलिस की इंक्वॉरी प्रभावित हो। मैं इस मामले में कोई समझौता नहीं चाहता।'

थरूर ने कहा कि उन्होंने दिल्ली पुलिस कमिश्नर को गुरुवार को लिखकर पूरे मामले की जांच को लेकर अपनी चिंता जता दी है। थरूर बोले, 'मैंने अपनी पत्नी खोई है। पूरे साल मैं शांति से रो भी नहीं पाया हूं और अब मैं केरल के इस आयुर्वेदिक हॉस्पिटल से जा रहा हूं, जो पहले से तय था...।'

इस बीच, दिल्ली पुलिस आयुक्त बीएस बस्सी ने आज कहा कि सुनंदा पुष्कर मौत मामले में वह तीन-चार दिन में कुछ 'ठोस जानकारी' मुहैया करने में सक्षम होंगे। बस्सी ने बताया कि एसआईटी अब मामले के तमाम पहलुओं पर गौर कर रही है।

सुनंदा पुष्कर की मौत से दो दिन पहले एक रहस्मय व्यक्ति के उनसे मुलाकात करने के बारे में मीडिया में आई खबरों के सिलसिले में किए गए सवालों का जवाब देते हुए पुलिस आयुक्त ने कहा, 'कई चीजें होंगी और बेशक कई बार आपको अहम सूचना नहीं मिल सकती है, इसलिए कुछ समय इंतजार करना बेहतर होगा और जब हमें कोई ठोस जानकारी मिलेगी, हम उसे आपके साथ साझा करेंगे।' उन्होंने कहा कि वह तीन-चार दिन में कुछ ठोस जानकारी मुहैया करने में सक्षम होंगे।

उन्होंने आज दोपहर यहां पुलिस मुख्यालय में संवाददाताओं से कहा, 'एसआईटी सामान्य रूप से जांच पर आगे बढ़ेगी और वे इसमें हुई प्रगति के बारे में वक्त वक्त पर मुझे बताते रहेंगे। जैसे ही मुझे कुछ प्रासंगिक जानकारी मिलेगी मैं साझा करूंगा, मैं निश्चित रूप से ऐसा करूंगा। तीन चार दिन इंतजार करिए और मैं आपको ब्योरा दूंगा और सारे सवालों का जवाब दूंगा।'

एसआईटी ने कल थरूर के घरेलू नौकर से कुछ खास बातों के बारे में पूछताछ की जैसे कि सुनंदा की मौत से 48 घंटे पहले किन लोगों ने उनसे मुलाकात की थी और उनके शरीर पर मौजूद चोट के निशान के बारे में भी।

दिल्ली पुलिस ने सुनंदा की मौत के सिलसिले में एम्स की मेडिकल रिपोर्ट के आधार पर मंगलवार को आईपीसी की धारा 302 के तहत हत्या का एक मामला दर्ज किया था। रिपोर्ट के मुताबिक सुनंदा की मौत स्वभाविक नहीं थी और जहर के चलते हुई थी। मामले की जांच के लिए एक एसआईटी का गठन किया गया है।


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement