NDTV Khabar

हरियाणा में 912 एकड़ जमीन अधिग्रहण पर सुप्रीम कोर्ट ने कांग्रेस सरकार पर उठाए सवाल

कोर्ट ने अपनी टिप्पणी में कहा कि बिल्डरों और  निजी संस्थाओं को अच्छी तरह से पता था कि अधिग्रहण नहीं होगा. जमीन मालिक अधिग्रहण की आशंका के चलते ही बिल्डरों को जमीन बेचने को मजूबर हुए.

44 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
हरियाणा में 912 एकड़ जमीन अधिग्रहण पर सुप्रीम कोर्ट ने कांग्रेस सरकार पर उठाए सवाल

प्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने हरियाणा के मानेसर में 912 एकड़ जमीन अधिग्रहण मामले में उस समय की कांग्रेस सरकार की नीयत पर सवाल खड़े किए हैं. कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई के दौरान कहा कि उस समय की सरकार का निर्णय सत्ता के साथ धोखाधड़ी करने जैसा है. उस समय की सरकार ने भूमि अधिग्रहण कानून बिल्डरों और निजी संस्थाओं को समृद्ध करने के लिए डिजाइन किया था. रिकॉर्ड से पता चलता है कि कुछ बिचौलियों के साथ-साथ विभिन्न संस्थाओं को अप्राकृतिक रूप से लाभ दिलाया गया है.

यह भी पढ़ें: मानेसर में 912 एकड़ जमीन के अधिग्रहण के मामले में सीबीआई ने जांच रिपोर्ट सौंपी

कोर्ट ने अपनी टिप्पणी में कहा कि बिल्डरों और  निजी संस्थाओं को अच्छी तरह से पता था कि अधिग्रहण नहीं होगा. जमीन मालिक अधिग्रहण की आशंका के चलते ही बिल्डरों को जमीन बेचने को मजूबर हुए. अधिग्रहण की धमकी के तहत जमीन मालिकों और संबंधित बिल्डरों / निजी संस्थाओं ने आपस में लेन-देन किए.  इस लेनदेन के दौरान बिचौलियों और बिल्डरों ने अपने फायदे के हिसाब से जमीन की कीमत तय की. गौरतलब है कि कुछ दिन पहले ही सीबीआई ने सुप्रीम कोर्ट को एक सील बंद लिफाफे में अपनी जांच दाखिल की थी.

यह भी पढ़ें: बिहार : विवादित जमीन की रखवाली में लगाए गए पुलिस कर्मी ने ही खरीद ली जमीन

सीबीआई ने अपनी रिपोर्ट में तत्कालीन हुडा सरकार पर कंपनी को भी फायदा पहुंचाने का आरोप लगाया है. इससे पहले 17 अप्रैल 2017 को हरियाणा सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस ढींगडा कमिशन की रिपोर्ट दाखिल की थी. इसके बाद ही सुप्रीम कोर्ट ने मानेसर में निर्माण कार्य पर रोक लगाई थी. अब इस मामले में सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने सुनवाई के दौरान राज्य के अधिकारियों और केंद्र सरकार को इस तरह के लेनदेन की गंभीरता से जांच करने और पैसे को दोबारा से हासिल करने को कहा है.  

टिप्पणियां
VIDEO: जमीन अधिग्रहण में भेदभाव का लगाया आरोप.


सीबीआई इस मामले में लेनदेन में "बिचौलियों" को हुए लाभ की पूरी जांच करेगा. कोर्ट ने कहा कि इन जमीन मालिकों को बिल्डरों से जो भी पैसा मिला है वो मुआवजे के तौर पर माना जाएगा. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement