NDTV Khabar

अब शर्त के साथ बार में शराब और डांस एक साथ: सुप्रीम कोर्ट बोला- बार बालाओं को टिप दें, मगर सिक्के नहीं उछाले जाएंगे

नियमों में बदलाव के साथ बार डांस को मंजूरी, सुप्रीम कोर्ट ने कहा- किसी तरह की अश्लीलता नहीं होनी चाहिए

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
नई दिल्ली:

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने डांस बार की वैधता के मामले में एक अहम फैसला सुनाया है. कोर्ट ने नियमों में बदलाव के साथ डांस बार को मंजूरी दे दी है. कोर्ट (Supreme Court) ने कहा है कि डांस बार (Dance Bar) में पैसे और सिक्के न उछाला जाए. मामले की सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार द्वारा 2016 में लागू किया गया कानून सही है. हालांकि, कोर्ट ने कहा कि डांस बार (Dance Bar) में किसी भी तरह की अश्लीलता नहीं होनी चाहिए. कोर्ट ने डांस बार को लेकर पहले से तय की गई सजा के प्रावधान को भी सही बताया है. एससी (Supreme Court) ने कहा कि बार बालाओं को टिप देना कही से भी गलत नहीं. कोर्ट ने डांस बार (Dance Bar) में शराब परोसने को भी सही बताया है. साथ ही कोर्ट ने स्कूल और धार्मिक संस्थाओं से एक किलोमीटर के दायरे मे रखने के सरकार के आदेश को रद्द कर दिया है.

डांस बार लाइसेंस मामला : इंडियन होटल एंड रेस्टोरेंट एसोसिएशन को सुप्रीम कोर्ट मिली राहत


कोर्ट ने कहा कि मुंबई में एक किलोमीटर का फासला बहुत ज्यादा है. सरकार इसे लेकर फिर से विचार करे. ध्यान हो कि इंडियन होटल एंड रेस्टोरेंट एसोसिएशन ने राज्य सरकार के नए एक्ट को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी. इस मामले को लेकर सुप्री कोर्ट ने 30 अगस्त 2018 को अपना फैसला सुरक्षित रखा था. इस दौरान महाराष्ट्र सरकार ने कहा था कि डांस बार को लेकर उनका नया नियम पूरी तरह से संवैधानिक दायरे में है. राज्य सरकार के अनुसार यह गैर कानूनी गतिविधियों और महिलाओं का शोषण भी रोकता है. राज्य सरकार ने दलील दी थी कि जीविका कमाने का अधिकारी सभी को है लेकिन राज्य की अपनी जिम्मेदारियां हैं. हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने राज्य सरकार के इस कानून को लेकर कहा था कि मुंबई में ऐसा लग रहा है कि मॉरल पुलिसिंग हो रही है. 

महाराष्ट्र के ठाणे में डांस बार में छापा, 75 लोग गिरफ्तार

बता दें कि इससे पहले इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रखा था. सुनवाई के दौरान महाराष्ट्र सरकार ने कहा था कि नया कानून संवैधानिक दायरे में आता है और यह गैर कानूनी गतिविधियों और महिलाओं का शोषण भी रोकता है.कोर्ट ने कहा था कि जीविका कमाने का अधिकार सभी को पर राज्य की जिम्मेदारी है कि सभी के अधिकारों और हितों का भी खयाल रखा जाए. पिछली सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि मुंबई में ऐसा लग रहा है कि मोरल पुलिसिंग हो रही है.  कोर्ट ने कहा कि राज्य सरकार के कड़े नियमों की वजह से मुंबई में एक भी डांस बार का परिचालन नहीं हो पा रहा है.

 मुंबई का डांस बार मामला : सुप्रीम कोर्ट ने कहा- अश्लीलता की परिभाषा अब बदल गई

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि समय के साथ अश्लीलता की परिभाषा भी बदल गई है. कोर्ट ने कहा कि पुरानी फिल्मों में चुंबन और प्यार भरे दृश्यों के लिए दो फूलों का मिलना और दो पक्षियों का चहचहाना दिखाया जाता था. डांस बार मालिकों ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि उनका लाइसेंस रिन्यूवल नहीं हो रहा है. नए लाइसेंस भी नहीं मिल रहे हैं.

VIDEO: डांस बार को लेकर नए नियम. 

 

 

टिप्पणियां

 

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement