NDTV Khabar

सुप्रीम कोर्ट ने राकेश अस्थाना की नियुक्ति के खिलाफ याचिका को किया खारिज, कहा- PIL के लिए भी होना चाहिए अनुशासन

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने अधिवक्ता एम एल शर्मा की ओर से दायर याचिका पर सुनवाई से इनकार करते हुए कहा कि जनहित याचिका के लिए भी कोई अनुशासन होमा चाहिए.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सुप्रीम कोर्ट ने राकेश अस्थाना की नियुक्ति के खिलाफ याचिका को किया खारिज, कहा-  PIL के लिए भी होना चाहिए अनुशासन

सुप्रीम कोर्ट (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. सुप्रीम कोर्ट अस्थाना की नियुक्ति पर लगी PIL को किया खारिज
  2. बीसीएएस के महानिदेशक की संभाल रहे जिम्मेदारी
  3. याचिका में हाईपावर कमेटी के फैसले को भी रद्द करने की मांग की गई
नई दिल्ली:

सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई के पूर्व विशेष निदेशक राकेश अस्थाना की नागरिक उड्डयन सुरक्षा ब्यूरो (बीसीएएस) के महानिदेशक पद पर नियुक्ति को चुनौती देने वाली जनहित याचिका को खारिज कर दिया. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने अधिवक्ता एम एल शर्मा की ओर से दायर याचिका पर सुनवाई से इनकार करते हुए कहा कि जनहित याचिका के लिए भी कोई अनुशासन होमा चाहिए. सीजेआई ने कहा कि अस्थाना को पद पर रहना चाहिए या नहीं इसके लिए प्रभावित व्यक्ति को कोर्ट में आने दें. उन्होंने कहा कि आपने इधर-उधर से जोड़कर सारी प्रार्थनाएं आसमान के नीचे एक कर दी गई हैं. ऐसा नहीं हो सकता है. चीफ जस्टिस गोगाई ने याचिकाकर्ता को फटकार लगाते हुए कहा कि हमें ये समझ नहीं आया कि आपकी प्रार्थना क्या है, आप किस तरह राहत चाहते हैं. उन्होंने पूछा कि आपकी याचिका, अस्थाना के खिलाफ प्रार्थना का हाई पावर कमेटी से क्या ताल्लुक है. 

CBI में बड़ा फेरबदल, आलोक वर्मा के बाद राकेश अस्थाना की भी हुई 'छुट्टी', यहां भेजा गया...


दरअसल वकील मनोहर लाल शर्मा द्वारा दाखिल याचिका में कहा गया था कि कानून के मुताबिक  FIR में आरोपी बताए गए अस्थाना को मामले का निपटारा होने तक सस्पेंड किया जाना चाहिए लेकिन सरकार ने उनको प्रमोशन देकर DG बना दिया. याचिका में ये भी कहा गया था कि हाईपावर कमेटी में आलोक वर्मा का टर्मिनेशन प्रोसेस गलत था. भविष्य में यदि किसी निदेशक को हटाने की नौबत आये तो इसके लिए भी नई गाइड लाइन बनाई जानी चाहिए. शर्मा ने दस जनवरी के आलोक वर्मा को सीबीआई निदेशक से हटाए जाने के हाईपावर कमेटी के फैसले को भी रद्द करने की मांग की है. 

सीबीआई में घूसकांड : आलोक वर्मा का इस्तीफा, राकेश अस्थाना को कोर्ट से झटका, 10 बड़ी बातें

टिप्पणियां

बता दें कि हाईकोर्ट ने अस्थाना के खिलाफ भ्रष्टाचार के मामले में दर्ज प्राथमीकि को रद्द करने से 11 जनवरी को इनकार कर दिया था और जांच पूरी होने के लिए 10 सप्ताह की समयसीमा निर्धारित की थी. इस बीच सरकार ने 18 जनवरी को अस्थाना को बीसीएएस का निदेशक नियुक्त किया  था.     

Video: राकेश अस्थाना का सीबीआई से तबादला -



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement