NDTV Khabar

रयान स्कूल मामले में ट्रस्टियों की अंतरिम जमानत रद्द किए जाने की अपील पर नोटिस जारी

सुप्रीम कोर्ट 30 अक्तूबर को सुनवाई करेगा कि अंतरिम जमानत रद्द की जाए या नहीं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
रयान स्कूल मामले में ट्रस्टियों की अंतरिम जमानत रद्द किए जाने की अपील पर नोटिस जारी

रयान इंटरनेशनल स्कूल...

नई दिल्ली: रयान मामले में पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट से रयान स्कूल के तीनों ट्रस्टियों को मिली अंतरिम जमानत के खिलाफ याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने ट्रस्टियों को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है. सुप्रीम कोर्ट 30 अक्तूबर को सुनवाई करेगा कि अंतरिम जमानत रद्द की जाए या नहीं. छात्र के पिता ने सुप्रीम कोर्ट में अपील दाखिल की है और हाई कोर्ट के आदेश को चुनौती दी है. याचिकाकर्ता के वकील सुशील टेकरीवाल ने कोर्ट को बताया है कि मामले की छानबीन चल रही है.

यह भी पढ़ें : रयान स्कूल में प्रद्युम्न की हत्या रोकी जा सकती थी: सीबीएसई

सीबीआई अभी शुरुआती जांच में जुटी है. ऐसे में आरोपी को जमानत दिए जाने से जांच प्रभावित हो सकती है.
VIDEO: सीबीएसई की रिपोर्ट

टेकरीवाल की ओर से कहा गया कि इस मौके पर सबूत नष्ट किए जाने का अंदेशा है, ऐसे में हाई कोर्ट के आदेश को खारिज किया जाना चाहिए.

गुरुग्राम के रयान इंटरनेशल स्‍कूल में सात वर्षीय छात्र प्रद्युम्‍न ठाकुर की हत्‍या के बाद के सीसीटीवी फुटेज पुलिस के हाथ लगे हैं. प्रद्युम्‍न की स्‍कूल के टॉयलेट में नृशंसतापूर्वक गला रेतकर हत्‍या कर दी गई थी. गुरुग्राम पुलिस ने NDTV को बताया कि टॉयलेट के बाहर लगाए गए कैमरे से उसे ये फुटेज हासिल हुई है. पुलिस के अनुसाार, फुटेज में प्रद्युम्‍न को टॉयलेट में प्रवेश करते हुए साफ तौर पर देखा जा सकता है. इसके कुछ मिनट बाद बस कंडक्‍टर अशोक कुमार टॉयलेट पहुंचा है. कुछ मिनटों के बाद खून से लथपथ प्रद्युम्‍न घिसटते हुए टॉयलेट से बाहर आता दिखाई देर रहा है. अशोक कुमार पर ही प्रद्युम्‍न की हत्‍या का आरोप है. वह वॉशरूम के दरवाजे के पास लड़खड़ाकर गिर जाता है. इससे दीवार खून से सन जाती है.

पोस्‍टमार्टम रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि सात वर्षीय प्रद्युम्‍न की मौत कुछ ही मिनटों में बड़ी मात्रा में खून बहने के कारण हो गई थी. उसे गले में चाकू के दो घाव थे, इनमें से एक घाव काफी  गहरा और गंभीर था. उससे उसकी सांस लेने वाली नली बुरी तरह क्षतिग्रस्‍त हो गई और इसी कारण वह मदद के लिए चिल्‍ला नहीं सका था. पुलिस के मुताबिक, मामले में गिरफ्तार किए गए बस कंडक्‍टर अशोक ने हत्‍या की बात स्‍वीकार कर ली है. पुलिस की जानकारी के अनुसार, अशोक ने बताया है कि उसने बच्‍चे को यौन हमले का शिकार बनापने की कोशिश की थी, इसका विरोध करने पर उसने बच्‍चे की हत्‍या कर दी थी.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement