तमिलनाडु में 11 MLA की अयोग्‍यता मामले में DMK की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने नोटिस जारी किया, मांगा जवाब

DMK ने सुप्रीम कोर्ट में तमिलनाडु के उप मुख्यमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम और AIADMK विधायकों को अयोग्य घोषित करने के लिए याचिका दायर की है.

तमिलनाडु में 11 MLA की अयोग्‍यता मामले में DMK की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने नोटिस जारी किया, मांगा जवाब

प्रतीकात्‍मक फोटो

नई दिल्ली:

तमिलनाडु (Tamil nadu) में 11 एआईएडीएमके विधायकों (11 AIADMK Lawmakers) की अयोग्यता के मामले में सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने DMK की याचिका पर नोटिस जारी कर जवाब मांगा है. गौरतलब है कि DMK ने सुप्रीम कोर्ट में तमिलनाडु के उप मुख्यमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम और AIADMK विधायकों को अयोग्य घोषित करने के लिए याचिका दायर की है. इन सभी ने 2017 के विश्वासमत (2017 Confidence Vote) में मुख्यमंत्री ई. पलानीस्वामी (E. Palaniswami )के खिलाफ मतदान किया था.सुप्रीम कोर्ट ने तमिलनाडु के उप मुख्यमंत्री ओ.पन्नीरसेल्वम और AIADMK के 10 विधायकों को नोटिस जारी किया.विधानसभा स्पीकर को भी नोटिस जारी किया गया है. मामले की सुनवाई चार हफ्ते बाद होगी.

Newsbeep

इस साल फरवरी में शीर्ष अदालत ने राज्य सरकार द्वारा SC को सूचित किए जाने के बाद इसी मुद्दे पर DMK की याचिका का निपटारा कर दिया था कि स्पीकर ने DMK की याचिका पर 11 विधायकों को अयोग्य ठहराने की कार्रवाई शुरू कर दी है. अब अपनी नई याचिका में DMK ने कहा कि उसकी याचिका पिछले तीन वर्षों से स्पीकर के पास लंबित है और स्पीकर ने कोई कार्रवाई नहीं की है और वह फिर से शीर्ष अदालत का रुख करने को मजबूर हुए हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


डीएमके ने अपनी याचिका में मणिपुर के भाजपा मंत्री टीएच श्यामकुमार को हटाने के शीर्ष अदालत के आदेश का हवाला दिया और कहा कि राज्य सरकार के अदालत को सूचित करने के बावजूद कि स्पीकर द्वारा कार्रवाई शुरू की गई है, अब तक कुछ भी नहीं हुआ है. DMK ने तर्क दिया कि कोर्ट 11 AIADMK विधायकों को अयोग्य घोषित करने के लिए तमिलनाडु के विधानसभा अध्यक्ष को निर्देश दे या अयोग्य ठहराए जाने वाली याचिका पर स्पीकर को शीघ्र फैसला लेने को कहे.