बाघों की सुरक्षा मामले में केंद्र सरकार, NTCA और NBWL को सुप्रीम कोर्ट का नोटिस

देश में बाघों की सुरक्षा को लेकर दायर याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार, पर्यावरण मंत्रालय, और नेशनल टाइगर कंजरवेशन अथॉरिटी को नोटिस जारी किया है

बाघों की सुरक्षा मामले में केंद्र सरकार, NTCA और NBWL को सुप्रीम कोर्ट का नोटिस

सुप्रीम कोर्ट (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

देश में बाघों की सुरक्षा को लेकर दायर याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार, नेशनल बोर्ड ऑफ़ वाइल्डलाइफ (NBWL), पर्यावरण मंत्रालय और नेशनल टाइगर कंजरवेशन अथॉरिटी (NTCA) को नोटिस जारी किया है. सुप्रीम कोर्ट में अनुपम त्रिपाठी ने जनहित याचिका दाखिल कर मांग की है कि बाघों के लिए संरक्षित क्षेत्र में रह रहे लोगों को किसी दूसरे स्थान पर शिफ़्ट किया जाए.

याचिका में कहा गया है कि बाघों का लगातार शिकार किया जा रहा है. बाघों का शिकार या तो वहां स्थानीय निवासी, सुरक्षा गार्ड या अवैध शिकारी कर रहे हैं. याचिका में यह भी कहा गया है कि बाघ अक्सर रिहायशी इलाकों में चले जाते हैं और वहां स्थानीय लोगों के मवेशियों को मार कर खा जाते हैं. यही वजह है कि वहां के स्थानीय निवासी बाघों को मार देते हैं. 

यह भी पढ़ें - बाघों के संरक्षण में शिकारी बने हुए हैं खतरा : हर्षवर्धन

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

याचिका में कहा गया है कि नेशनल टाइगर कंजरवेशन अथॉरिटी के डाटा के मुताबिक, जनवरी से अगस्त 2015 में 41 बाघों का शिकार किया गया. वहीं, 2016 में 74 बाघों की मौत हुई. याचिका में यह भी कहा गया है कि पिछले 15 सालों में 1200-1400 बाघों के शिकार किये गये हैं.

VIDEO : राजस्थान के रेलवे स्टेशनों पर संस्कृति की छाप, कहीं शेर की दहाड़, कहीं लोककला की छटा