Farmers Bill 2020: सुप्रीम कोर्ट ने केन्द्र सरकार को जारी किया नोटिस, 6 हफ्तों में मांगा जवाब

केंद्रीय कृषि कानूनों (Farmers Bill- 2020) के खिलाफ दायर याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट ने केन्द्र सरकार को नोटिस जारी कर 6 हफ्तों में जवाब मांगा है.

Farmers Bill 2020: सुप्रीम कोर्ट ने केन्द्र सरकार को जारी किया नोटिस, 6 हफ्तों में मांगा जवाब

Farmers Bill- 2020: याचिकाओं में कृषि कानूनों की संवैधानिकता को चुनौती दी गयी है

नई दिल्ली:

केंद्रीय कृषि कानूनों (Farmers Bill- 2020) के खिलाफ दायर याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट ने केन्द्र सरकार को.नोटिस जारी कर 6 हफ्तों में जवाब मांगा है. याचिकाओं में कृषि कानूनों की संवैधानिकता को चुनौती दी गयी है. कोर्ट ने मनोहर लाल की याचिका को दरकिनार करते हुए बाकी अन्य नेताओं की याचिकाओं पर कोर्ट ने सरकार को नोटिस जारी किया और अटॉर्नी जनरल से कहा कि अन्य सभी हाईकोर्ट में दाखिल मुकदमों की स्थिति का ब्योरा दें. 

Read Also: कृषि कानूनों का प्रभाव रोकने के लिए नए कानून लाएगी छत्तीसगढ़ सरकार: भूपेश बघेल

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने हाल ही में बनाए गए कृषि कानून के खिलाफ दाखिल चार याचिकाओं पर सुनवाई की. इन याचिकाओं में कानून को असंवैधानिक करार देकर रद्द करने की मांग की गई है. मामले की सुनवाई CJI एस ए बोबडे, जस्टिस ए एस बोपन्ना और जस्टिस वी रामासुब्रमण्यम की बेंच ने की. डीएमके सांसद त्रिची शिवा ने कृषि कानून के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर कहा है कि कानूनों को असंवैधानिक और अवैध घोषित किया जाए. 

Newsbeep

Read Also: कृषि कानूनों पर कांग्रेस के दुष्प्रचार के आगे मोदी सरकार न झुकेगी, न रुकेगी : नरेंद्र सिंह तोमर

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


नए कानून देश के गरीब किसानों के लिए एक नए शोषणकारी शासन की शुरूआत करेंगे, जो पूरी तरह से बाजार में अपनी उपज बेचकर अपनी आजीविका कमाने पर निर्भर हैं. आरजेडी सांसद मनोज झा ने भी नए लागू किए गए तीन कृषि कानूनों की संवैधानिक वैधता को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है. झा ने याचिका में कानूनो को चुनौती देते हुए कहा कि वे "भेदभावपूर्ण और प्रकट रूप से मनमानी" हैं.  ये कानून सीमांत किसानों को बड़े कॉर्पोरेट द्वारा शोषण के लिए  खुला छोड़ दें. बताते चलें कि केरल और त्रिची के सांसद और वकील मनोहर लाल शर्मा नेभी कानून को चुनौती दी है.