NDTV Khabar

यूपी सरकार को सुप्रीम कोर्ट से झटका, पूर्व मुख्यमंत्रियों को सरकारी बंगला खाली करने का आदेश

सुप्रीम कोर्ट ने यूपी कानून को रद्द करर दिया और कहा कि यह संविधान के खिलाफ है. यह कानून समानता के मौलिक अधिकार के खिलाफ है और मनमाना है. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
यूपी सरकार को सुप्रीम कोर्ट से झटका, पूर्व मुख्यमंत्रियों को सरकारी बंगला खाली करने का आदेश

सुप्रीम कोर्ट (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. पूर्व CMs को खाली करना होगा सरकारी बंगला.
  2. सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सरकार के कानून को रद्द किया.
  3. पूर्व CMs को खाली करना होगा सरकारी बंगला- सुप्रीम कोर्ट
नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश में पूर्व मुख्यमंत्रियों को ताउम्र सरकारी बंगला दिए जाने के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने अहम फैसला सुनाया है. सुप्रीम कोर्ट ने आदेश देते हुए कहा कि पूर्व मुख्यमंत्रियों को सरकारी बंगले खाली करने होंगे. सुप्रीम कोर्ट ने यूपी कानून को रद्द कर दिया और कहा कि यह संविधान के खिलाफ है. यह कानून समानता के मौलिक अधिकार के खिलाफ है और मनमाना है. 

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद यूपी के इन पूर्व मुख्यमंत्रियों से छिन जाएंगे 'सरकारी आशियाने'

सुप्रीम कोर्ट ने संविधान की प्रस्तावना का हवाला देते हुए कहा कि इस कानून ने नागरिकों के बीच स्पेशल क्लास बना दी. एक बार जब पब्लिक सर्वेंट दफ्तर छोड़ देते हैं तो वो साधारण नागरिक बन जाते हैं. गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में पूर्व मुख्यमंत्रियों को ताउम्र सरकारी बंगला दिए जाने के प्रावधान पर सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया है. 

आधार पर SC की टिप्पणी, आश्वस्त नहीं योजनाओं का लाभ देने के लिए यह सबसे अच्छा मॉडल 

इससे पहले अमीकस क्यूरी गोपाल सुब्रमण्यम ने कहा था कि पूर्व प्रधानमंत्रियों व मुख्यमंत्रियों को आजीवन सरकारी बंगला नहीं दिया जाना चाहिए क्योंकि ये जनता के पैसे का दुरुपयोग है. अदालत ने इसे जनहित का मामला बताते हुए वरिष्ठ वकील गोपाल सुब्रमण्यम को अमीकस क्यूरी (न्यायालय मित्र) नियुक्त किया था.

दरअसल लोक प्रहरी नामक संगठन द्वारा इस मसले को लेकर दायर याचिका पर पहले ही उत्तर प्रदेश सरकार को नोटिस जारी किया जा चुका था. बेंच ने कहा कि इसका असर विभिन्न राज्यों पर ही नहीं बल्कि केंद्रीय कानून पर भी पड़ेगा. इसे देखते हुए पीठ ने वरिष्ठ वकील गोपाल सुब्रमण्यम को अमीकस क्यूरी नियुक्त करते हुए अदालत की मदद करने के लिए कहा था.

पूर्व पीएम और सीएम को आजीवन सरकारी बंगला देना चाहिए या नहीं, सुप्रीम कोर्ट 13 मार्च को करेगा सुनवाई
 
मालूम हो कि यूपी में पूर्व मुख्यमंत्रियों को ताउम्र सरकारी बंगला दिए जाने के प्रावधान को अगस्त, 2015 में सुप्रीम कोर्ट ने निरस्त कर दिया था और दो महीने के भीतर तमाम पूर्व मुख्यमंत्रियों को सरकारी आवास खाली करने का आदेश दिया था. उत्तर प्रदेश सरकार के पूर्व मुख्यमंत्री आवास आवंटन नियम, 1997 को कानून गलत बताते हुए सुप्रीम कोर्ट ने साथ ही इन सभी से किराया भी वसूलने के आदेश दिया था.

टिप्पणियां
अब सांसदों और बाबुओं को तय समयसीमा में खाली करना होगा सरकारी बंगला
 
लेकिन बाद में यूपी सरकार ने इसके लिए कानून बना दिया, जिसे सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई. इस फैसले केबाद राज्य सरकार ने प्रावधान में संशोधन और नया कानून लाकर पूर्व मुख्यमंत्रियों के लिए ताउम्र सरकारी निवास देने का निर्णय लिया. याचिका में कहा कि राज्य सरकार ने कानून लाकर शीर्ष अदालत को फैसले को विफल करने की कोशिश की है. याचिका में संशोधन प्रावधान और नए कानून को चुनौती दी गई है.

VIDEO: यूपी में पूर्व सीएम बंगले के हक़दार नहीं : सुप्रीम कोर्ट


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement