Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

वैष्‍णो देवी का नया मार्ग 24 नवंबर तक खोलने के NGT के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक

सुप्रीम कोर्ट में वैष्णों देवी श्राइन बोर्ड की याचिका पर नोटिस जारी किया है हालांकि कोर्ट ने एनजीटी के बाकी निर्देशों पर रोक नहीं लगाई है. कोर्ट में बोर्ड ने कहा कि इस मार्ग को इतनी जल्दी खोलना संभव नहीं है. फरवरी के अंत तक मार्ग को खोला जा सकता है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
वैष्‍णो देवी का नया मार्ग 24 नवंबर तक खोलने के NGT के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक

सुप्रीम कोर्ट में बोर्ड ने कहा कि वैष्‍णों देवी का नया मार्ग एनजीटी के आदेश के मुताबिक इतनी जल्दी खोलना संभव नहीं है.(फाइल फोटो)

खास बातें

  1. सुप्रीम कोर्ट ने याचिकाकर्ता को जारी किया नोटिस
  2. वैष्णों देवी श्राइन बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की थी याचिका
  3. एनजीटी के बाकी फैसला पर सुप्रीम कोर्ट ने नहीं लगाई रोक
नई दिल्‍ली:

वैष्णों देवी के नेशनल ग्रीन ट्रिब्‍यूनल (एनजीटी) के उस आदेश पर सुप्रीम कोर्ट ने रोक लगा दी है जिसमें 24 नवंबर तक यात्रा के लिए नया मार्ग खोलने के आदेश दिए थे. सुप्रीम कोर्ट ने एनजीटी में याचिका दाखिल करने वाले को नोटिस जारी कर दो हफ्ते में जवाब मांगा है.  

NGT ने दिल्ली- एनसीआर में निर्माण कार्य से बैन हटाया, कूड़ा जलाने पर जारी रहेगा बैन

सुप्रीम कोर्ट में वैष्णों देवी श्राइन बोर्ड की याचिका पर नोटिस जारी किया है हालांकि कोर्ट ने एनजीटी के बाकी निर्देशों पर रोक नहीं लगाई है. कोर्ट में बोर्ड ने कहा कि इस मार्ग को इतनी जल्दी खोलना संभव नहीं है. फरवरी के अंत तक मार्ग को खोला जा सकता है.

दरअसल, नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) के आदेश के खिलाफ माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की. एनजीटी ने श्री माता वैष्णो देवी के मंदिर में दर्शनार्थियों की संख्या को नियंत्रित करने का आदेश दिया था. इसके साथ ही यात्रा के लिए बनाए गए नए मार्ग को 24 नवंबर तक खोलने के आदेश दिए थे.


अमरनाथ श्राइन गुफा के आसपास का क्षेत्र साइलेंस जोन घोषित किया जाए: एनजीटी

एनजीटी ने पिछले सोमवार को एक याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा है कि माता वैष्णो देवी के मंदिर में अब एक दिन में सिर्फ 50 हजार श्रद्धालुओं को ही दर्शन करने की अनुमति दी जाए. एनजीटी ने अपने आदेश में ये भी कहा है कि यदि श्राइन बोर्ड को इससे ज्यादा श्रद्धालुओं के यात्रा पंजीकरण की सूचना मिलती है तो अतिरिक्त श्रद्धालुओं को कटरा और अर्धकुंवारी में ही रोकने की व्यवस्था सुनिश्चित कर दी जाए. 

इसके साथ ही एनजीटी ने श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड के कॉम्प्लेक्स में किसी भी तरह के नए निर्माण पर रोक लगाने का भी निर्देश दिया. कहा जा रहा है कि एनजीटी ने पर्यावरण संरक्षण के लिहाज से इस दिशा में फैसला लिया है. 

VIDEO: दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण घटा, निर्माण कार्यों से बैन हटा

टिप्पणियां

माना जा रहा है कि एनजीटी के फैसले का असर सबसे ज्यादा नवरात्र के समय में देखने को मिलेगा. नवरात्र के समय हर साल औसतन 50-60 हजार श्रद्धालु प्रतिदिन माता वैष्णो देवी के दर्शन के लिए पहुंचते हैं. ऐसे में कहा जा सकता है कि श्रद्धालुओं की संख्या सीमित करने के साथ यात्रियों के ठहरने के लिए भी पुख्ता इंतजाम करना श्राइन बोर्ड के लिए चुनौती भरा काम होगा.

 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... Coronavirus: लॉकडाउन करने से पहले की तैयारी को लेकर हो रही आलोचना पर सरकार की तरफ से आया यह बयान

Advertisement