NDTV Khabar

मुंबई : नेशनल पार्क में बंदरों की रहस्यमय मौत, जहर देकर मारने का शक

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मुंबई : नेशनल पार्क में बंदरों की रहस्यमय मौत, जहर देकर मारने का शक

प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

मुंबई:

मुंबई के संजय गांधी नेशनल पार्क में जानवरों की रहस्मय मौत हो रही है। पिछले दिनों एक साथ सात बंदर मरे हुए पाए गए। उसके पहले एक घड़ि‍याल भी मरा हुआ मिला था। चर्चा है कि बड़ी संख्या में कौओं की भी मौत हो रही है।

संजय गांधी नेशनल पार्क मुंबई में गोरेगांव से वसई तक तकरीबन 103 वर्ग किलोमिटर में फैला है। जिसमें शेर, बाघ, तेंदुए जैसे खतरनाक प्राणियों के साथ हिरण और बंदर भी बड़ी संख्या में हैं। लेकिन पिछले दिनों एक साथ 7 बंदरों की मौत ने पशु प्रेमियों को बेचैन कर दिया है।

मामले को उजागर करने वाले वन्य जीवन रक्षक कार्यकर्ता सलीम चरनिया के मुताबिक सभी बंदरों की एक आंख निकाली गई है और उनके छाती में भी जख्म के निशान हैं। इसलिए इतना तो साफ है कि बंदरों की मौत स्वाभाविक नहीं है उनकी हत्या की गई है। सिर्फ बंदर ही नहीं कौओं और एक घड़ि‍याल की मौत भी हुई है। घड़ि‍याल नेशनल पार्क के बीचों बीच विहार लेक के पास मरा हुआ पड़ा मिला। उसके भी सिर पर पत्थर से मारने के निशान हैं।

हालांकि अभी ये साफ नहीं हो पाया है कि उसे पत्थर मारकर मारा गया है या फिर मरने के बाद उसे पत्‍थर मारा गया है। लेकिन अहम सवाल है कि बड़ी संख्या में फॉरेस्ट गार्डों की पहरेदारी के बावजूद कोई जंगल के बीचों बीच विहार लेक तक कैसे पंहुच गया? यही वजह है कि एक अन्य पशु प्रेमी सचिन राय जो रोजाना नेशनल पार्क में जॉगिंग करने जाते हैं, उन्होंने खूद होकर भी छानबीन करने का दावा करते हुए आरोप लगाया कि इन सभी मौतों के लिए नेशनल पार्क प्रशासन ही जिम्मेदार है।

वहीं स्थानीय विधायक प्रकाश सुर्वे का भी आरोप है कि प्रशासन सच्चाई पर पर्दा डालने की कोशिश कर रहा है। इसलिए उन्होंने मुख्यमंत्री से मिलकर मामले की उच्चस्तरीय जांच कराने की मांग की है। प्रकाश सुर्वे का कहना है कि अगर जल्द ही दोषी पकड़े नहीं गए तो विधानसभा सत्र में भी मामला उठाएंगे।

इधर पार्क प्रशासन के मुताबिक प्राथमिक जांच में बंदरों को जहर देने के संकेत मिले हैं। लेकिन ये किस किस्म का ज़हर है इसका उसके पास कोई जवाब नहीं है। नेशनल पार्क के वन अधिकारी विकास गुप्ता के मुताबिक बंदरों का विसरा फॉरेंसिक लैब में भेजा गया है। उसकी रिपोर्ट आने के बाद ही ये पता चल पाएगा कि बंदरों को कौन सा ज़हर दिया गया है। हालांकि उन्होंने मामले में एक शख्स को गिरफ्तार किए जाने का दावा किया है।

टिप्पणियां


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement