तमिलनाडु : हिरासत में मौत के मामले में CBI ने कहा, पिता-पुत्र को शाम 7:45 से तड़के 3 बजे तक पीटा गया

जून महीने में पुलिस हिरासत में एक पिता-बेटे की हुई मौत पर सीबीआई ने अपनी चार्जशीट में कहा है कि दोनों को पुलिसवालों ने छह घंटों तक प्रताड़ना दी थी. फोरेंसिक सबूतों में सामने आया है कि उन्हें इतनी बुरी तरह से प्रताड़ित किया गया था कि पुलिस स्टेशन की दीवारों पर खून के छींटे पड़े थे.

तमिलनाडु : हिरासत में मौत के मामले में CBI ने कहा, पिता-पुत्र को शाम 7:45 से तड़के 3 बजे तक पीटा गया

जयराज-बेनिक्स की 22 जून को पुलिस हिरासत में मौत हो गई थी.

खास बातें

  • तमिलनाडु कस्टोडियल डेथ मामले में CBI की चार्जशीट
  • प्रताड़ना के तरीके और वक्त की हुई पुष्टि
  • छह घंटों तक प्रताड़ना के बाद हुई थी मौत
चेन्नई:

तमिलनाडु के तूतीकोरिन में जून महीने में पुलिस हिरासत (Police Custodial Death) में एक पिता-बेटे की हुई मौत पर सीबीआई ने अपनी चार्जशीट में कहा है कि दोनों को पुलिसवालों ने छह घंटों तक प्रताड़ना दी थी. फोरेंसिक सबूतों में सामने आया है कि उन्हें इतनी बुरी तरह से प्रताड़ित किया गया था कि पुलिस स्टेशन की दीवारों पर खून के छींटे पड़े थे.

बता दें कि जयराज और उनके बेटे बेनिक्स को 10 जून को उनकी दुकान लॉकडाउन गाइडलाइंस के तहत दिशा-निर्देशों से 15 मिनट तक ज्यादा खुली रखने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था. पहले पुलिसवालों ने जयराज को हिरासत में लिया था, बेनिक्स इसके बाद पुलिस स्टेशन पहुंचा तो पुलिस ने उसे भी गिरफ्तार कर लिया था.

सीबीआई ने अपनी चार्जशीट में कहा है कि पिता-पुत्र को 'रात पौने आठ से लेकर अगली तड़के सुबह 3 बजे तक कई राउंड में प्रताड़ित किया गया.' पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक, बेनिक्स को लगी भारी चोटों से उसकी मौत हो गई थी. पुलिसवालों ने बेनिक्स से ही उसके कपड़े से स्टेशन में फैले खून को पुंछवाया था. सीबीआई ने यह भी कहा है कि पुलिसवालों ने अपना अपराध छिपाने के लिए बेनिक्स और जयराज के खिलाफ एक झूठी एफआईआर भी दर्ज कराई थी. जांच में यह सामने आया है कि पिता-पुत्र ने लॉकडाउन गाइडलाइंस के नियमों का उल्लंघन नहीं किया था.

यह भी पढ़ें : तमिलनाडु हिरासत में मौत का मामला: कोर्ट में पेश की गई रिपोर्ट में हुआ खुलासा, थाने के CCTV फुटेज मिटाए गए

चार्जशीट में बताया गया है कि पुलिस ने घटना के सभी सबूत मिटा दिए थे और खून से सने कपड़ों को एक सरकारी अस्पताल के कूड़ेदान में डाल दिया गया था. फोरेंसिक टीम के मुताबिक, पुलिस ने दोनों को लाठियों से पीटा था और उनका खून शाकुंतलम पुलिस स्टेशन की दीवारों पर फैला हुआ था. सीबीआई ने कहा, 'यह तथ्य कि बेनिक्स और जयराज को 19 जून, 2020 और 19-20 जून की दरम्यानी रात में आरोपी पुलिस अधिकारियों ने बुरी तरह से शारीरिक प्रताड़ना दिया था, साबित हुआ है.' दोनों की 22 जून को कुछ घंटों के अंतराल पर मौत हो गई थी. 

जिस दिन दोनों को पीटा गया था, उस दिन के पुलिस स्टेशन के सीसीटीव कैमरों में कोई फुटेज नहीं है. कोर्ट ने मजिस्ट्रेट ने बताया था कि इन कैमरों को ऐसे प्रोग्राम किया गया था कि सिस्टम के हार्ड डिस्क में पर्याप्त स्टोरेज स्पेस होने के बावजूद हर फुटेज ऑटो-डिलीट हो जाता है. पुलिस हिरासत में हुई इस मौत से देशभर में गुस्सा फैल गया था और आरोपी पुलिसकर्मियों को सजा दिलवाने के लिए अभियान शुरू हो गया था.

Video: हम लोग : हिरासत में पिता-पुत्र की मौत से आक्रोश

Newsbeep

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com