केंद्र कोरोना का प्रसार रोकने के लिए राज्यों में भेज सकता है टीमें, 4 प्रांतों में पहले ही भेजे दल

हरियाणा, राजस्थान, गुजरात और मणिपुर में कोरोना के खिलाफ अभियान की निगरानी के लिए ये टीमें भेजी जा चुकी हैं. दिल्ली समेत कई राज्यों में कोरोना के मामले तेजी से बढ़े हैं.

केंद्र कोरोना का प्रसार रोकने के लिए राज्यों में भेज सकता है टीमें, 4 प्रांतों में पहले ही भेजे दल

Coronavirus के बढ़ते मामलों को लेकर सतर्क हो गई है केंद्र सरकार

नई दिल्ली:

केंद्र सरकार कोरोना का प्रसार (Corona Infection) रोकने के लिए अन्य राज्यों में भी स्वास्थ्य विशेषज्ञों (Health Expert) की टीमें भेज सकती है. चार राज्यों में ऐसी टीमें पहले ही रवाना की जा चुकी हैं. हरियाणा, राजस्थान, गुजरात और मणिपुर में कोरोना के खिलाफ अभियान की निगरानी के लिए ये टीमें भेजी जा चुकी हैं. केंद्र सरकार अन्य राज्यों में भी कोरोना (Covid-19) के बढ़ते मामलो में उछाल को देखते हुए उच्चस्तरीय टीमें भेजने पर विचार कर रही है. 

यह भी पढ़ें- दिल्ली में कोरोना के 7,546 नए मामले, बीते 24 घंटे में 98 लोगों की मौत

केंद्र सरकार ने राज्यों को सलाह दी है कि वे सर्दियों में मामले बढ़ते देख जांच का दायरा बढ़ाएं और उन संदिग्ध मरीजों की पहचान करें जिन्हें अब तक चिन्हित नहीं किया जा चुका है या वे लापता हैं. राज्यों को टेस्टिंग के लिए आक्रामक तरीके से अभियान चलाने को कहा गया है, ताकि ज्यादा से ज्यादा कोरोना पॉजिटिव (Corona Positive)लोगों को शुरुआती दौर में ही पकड़ा जा सके. ऐसे मामले लंबे समय तक पकड़ में नहीं आने के कारण दूसरों तक बेहद तेजी से संक्रमण फैला रहे हैं.

टेस्टिंग के तरीकों पर नजर
केंद्र सरकार ने गुरुवार को हरियाणा, राजस्थान, गुजरात और मणिपुर के लिए उच्चस्तरीय दल रवाना किया था. ये टीमें राज्यों के कोविड-19 (Covid-19 Positive) से सर्वाधिक प्रभावित जिलों का दौरा करेंगी. स्वास्थ्य टीमों से जुड़े विशेषज्ञ कंटेनमेंट को मजबूत बनाने, निगरानी बढ़ाने, रणनीतिक तरीके से टेस्टिंग (Corona Testing)करने और पॉजिटिव मरीजों के सही तरीके से उपचार को लेकर सलाह देंगे. 

दिल्ली-महाराष्ट्र के हालात चिंताजनक
देश में कोरोना (Corona Virus Cases In India)के 90 लाख से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं. जबकि मौतों की संख्या एक लाख 32 हजार से ज्यादा हो चुकी है. दिल्ली में सर्वाधिक कोरोना के केस रोज मिल रहे हैं, जबकि महाराष्ट्र, केरल, तमिलनाडु और कर्नाटक में भी मरीजों की संख्या में उछाल दिख रहा है.

देश में कोरोना के मामले फिर बढ़ने की आशंका
पिछले एक-डेढ़ माह के दौरान देश में रोजाना मिलने वाले कोरोना के मरीजों की तादाद 90-95 हजार से घटकर 45-50 हजार के बीच आ गई है. आशंका है कि अगर सख्ती न की गई तो भारत में फिर रोजाना मिलने वाले मरीजों की संख्या 90 हजार से एक लाख तक पहुंच सकती है.

Newsbeep

दिल्ली में सबसे बड़ा कोरोनावायरस सर्वे

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com