NDTV Khabar

मोबाइल फोन को लेकर दो किशोरियों ने की खुदकुशी, पुलिस ने शुरू की जांच

पुलिस ने बताया कि शनिवार दोपहर में 18 वर्षीय एक लड़की ने अपने घर में फांसी लगा कर खुदकुशी कर ली. उन्होंने बताया कि परीक्षा नजदीक होने के कारण परिवार ने उसे कथित तौर पर मोबाइल फोन का इस्तेमाल नहीं करने को कहा था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मोबाइल फोन को लेकर दो किशोरियों ने की खुदकुशी, पुलिस ने शुरू की जांच

प्रतीकात्मक चित्र

हैदराबाद:

हैदराबाद में अलग-अलग घटनाओं में वार्षिक परीक्षा को देखते हुए मोबाइल फोन का अधिक इस्तेमाल नहीं करने और टीवी देखना बंद करने के लिए परिवार द्वारा कहे जाने के बाद दो किशोरियों ने कथित तौर पर खुदकुशी कर ली. पुलिस ने रविवार को यह जानकारी दी. पुलिस ने बताया कि शनिवार दोपहर में 18 वर्षीय एक लड़की ने अपने घर में फांसी लगा कर खुदकुशी कर ली. उन्होंने बताया कि परीक्षा नजदीक होने के कारण परिवार ने उसे कथित तौर पर मोबाइल फोन का इस्तेमाल नहीं करने को कहा था. पुलिस ने बताया कि अन्य घटना में सातवीं कक्षा में पढ़ रही 13 वर्षीय लड़की ने शुक्रवार रात में अपनी आवासीय इमारत की छठी मंजिल से कूद कर खुदकुशी कर ली.

दिल्‍ली से सटे गाजियाबाद में 10वीं के छात्र ने खुद को गोली मारकर की आत्‍महत्‍या


पुलिस ने बताया कि परिवार के सदस्यों ने उसे टीवी नहीं देखने और मोबाइल फोन का अधिक इस्तेमाल नहीं करने को कहा था. उन्होंने बताया कि खुदकुशी के मामले दर्ज कर लिये गये हैं और मामले की जांच की जा रही है. गौरतलब है कि ऐसा ही एक मामला बेंग्लुरु से आया था. दसवीं कक्षा में पढ़ने वाले एक छात्र ने सिर्फ इसलिए मेट्रो ट्रेन के आगे कूदकर आत्महत्या की कोशिश की क्योंकि उसकी मां ने स्कूल देरी से जाने को लेकर उसे डांटा था. हालांकि इस घटना में मेट्रो चालक की सूजबूझ से 18 वर्षीय छात्र की जान तो बच गई लेकिन वह गंभीर रूप से घायल हो गया था. फिलहाल उसका इलाज के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ एंड न्यूरो साइंस में चल रहा था. बता दें कि पीड़ित छात्र के अभिभावक टेलर का काम करते थे. घटना की जानकारी मिलने के बाद कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी घायल से मिलने अस्पताल पहुंचे. उन्होंने कहा था कि यह बेहद दुखद है कि कुछ लोग छोटी बात पर भी इतना बड़ा कदम उठा लेते हैं.

IIT मद्रास के एक छात्र ने की आत्महत्या, पुलिस को शक है कि अटेंडेंस कम होने से था दबाव में

गौरतलब है कि इस तरह का यह कोई पहला मामला नहीं है. इससे पहले दिल्ली के इंद्रपुरी इलाके में एक ऐसा ही मामला सामने आया था. जहां सातवीं कक्षा में पढ़ने वाले एक छात्रा ने खुदकुशी कर ली थी. पुलिस के अनुसार छात्रा ने यह कदम तब उठाया था जब उसकी मां घर में मौजूद नहीं थी. मामले की जांच कर रहे पुलिस अधिकारी ने बताया था कि छात्रा ने अपनी हथेली पर सुसाइड नोट भी लिखा था. वहीं इससे पहले सिविल सर्विसेज की तैयारी कर रहे 23 वर्षीय छात्र ने कुछ महीने पहले करोल बाग स्टेशन पर मेट्रो ट्रेन के सामने कूदकर कथित तौर पर खुदकुशी की कोशिश की थी.

टिप्पणियां

यह भी पढ़ें: आईआईटी दिल्ली के ग्रेजुएट ने सातवीं मंजिल से कूदकर आत्महत्या की

डीएमआरसी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया था कि घटना ब्लू लाइन पर सुबह साढ़े नौ बजे हुई. युवक नोएडा जा रही मेट्रो के सामने कथित तौर पर कूद गया था. बताया जा रहा था कि युवक के माथे में चोट आई थी और उसे राम मनोहर लोहिया अस्पताल में निगरानी में रखा गया था. एक पुलिस अधिकारी ने बताया था कि मुंबई का रहने वाला युवक सिविल सर्विसेज की तैयारी करता था और पूर्वी दिल्ली के निर्माण विहार में अपने दोस्त के साथ रहता था. डीएमआरसी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया था कि ब्लूलाइन पर मेट्रो सेवा कुछ समय के लिए प्रभावित हुई थी लेकिन जल्द ही परिचालन सामान्य  हो गया.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement