...अगर ऐसा हुआ तो 50 फीसदी तक कम हो जाएगा 'तेजस' का किराया

रेलवे की पर्यटन एवं खानपान शाखा इंडियन रेलवे टूरिज्म एंड कैटरिंग कॉरपोरेशन (IRCTC) को दिल्ली-लखनऊ तेजस एक्सप्रेस और अहमदाबाद-मुंबई सेंट्रल तेजस एक्सप्रेस ट्रेनों का किराया तय करने की छूट दी गई है.

...अगर ऐसा हुआ तो 50 फीसदी तक कम हो जाएगा 'तेजस' का किराया

तेजस का कम हो सकता है किराया

नई दिल्ली:

रेलवे की सहायक कंपनी IRCTC द्वारा संचालित की जाने वाली दो तेजस एक्सप्रेस ट्रेनों का किराया उसी मार्ग पर चलने वाले विमानों की तुलना में 50 फीसदी कम होगा. सूत्रों ने मंगलवार को यह जानकारी दी. रेलवे की पर्यटन एवं खानपान शाखा इंडियन रेलवे टूरिज्म एंड कैटरिंग कॉरपोरेशन (IRCTC) को दिल्ली-लखनऊ तेजस एक्सप्रेस और अहमदाबाद-मुंबई सेंट्रल तेजस एक्सप्रेस ट्रेनों का किराया तय करने की छूट दी गई है. कुछ ट्रेनों को चलाने का जिम्मा निजी हाथों में देने की रेलवे की योजना से पहले प्रयोग के तौर पर IRCTC को इन ट्रेनों को चलाने की जिम्मेदारी दी गई है.

तेजस एक्सप्रेस में फूड प्वॉइजनिंग का मामला : आईआरसीटीसी का अफसर और कैटरिंग प्रबंधक सस्पेंड

सूत्रों ने बताया कि इन दोनों ट्रेनों का किराया इसी मार्ग पर चलने वाले विमानों के किराये से 50 प्रतिशत कम होगा. यहां तक कि व्यस्ततम समय में किराये के दर में उतार-चढ़ाव के बावजूद टिकट की कीमत विमानों के किराए से कम होगी. सूत्रों ने बताया कि आईआरसीटीसी दोनों ट्रेनों के स्वरूप को तय करने पर काम कर रही है जो शताब्दी ट्रेनों के बराबर होगी. उन्होंने बताया कि इन ट्रेनों में किसी भी यात्री के लिये न तो रियायत होगी और न ही कोटा होगा, भले ही वह वीआईपी ही क्यों न हो.गौरतलब है कि शुरुआत में तेजस एक्सप्रेस ट्रेन का किराया शताब्दी एक्सप्रेस के किराये से 20 फीसदी ज्यादा होने की बात कही गई थी. कहा गया था कि यह किराया भले ही बहुत ज्यादा लग रहा हो लेकिन संबंधित अधिकारियों की मानें तो यह मुफीद है .

तेजस एक्सप्रेस को सुरेश प्रभु दिखाएंगे हरी झंडी; मेट्रो जैसे होंगे दरवाजे, शताब्दी से 20 फीसदी ज्यादा किराया- खास बातें

साथ ही यह भी बता दें कि यह किराया (शताब्दी से 20 फीसदी अधिक) केवल मूलभूत किराए में बढ़ोतरी है और अन्य चार्जेस (जैसे कि खाने पीने के चार्ज, रिजर्वेशन चार्ज आदि) इस पर अलग से लगेंगे.  तेजस के नए डिब्बों का निरीक्षण करते समय प्रभु ने कहा था कि चूंकि ट्रेन बेहतर सुविधाओं से लैस है, लिहाजा सामान्य मेल या एक्सप्रेस सेवा की तुलना में इसका किराया भी थोड़ा ज्यादा रहेगा. सीसीटीवी कैमरों और धुएं एवं आग का पता लगाने वाली प्रणालियों जैसे सुविधाओं से लैस तेजस एक्सप्रेस में यात्रियों को यात्रा के दौरान खाना ऑर्डर करने का विकल्प दिया जा रहा है. यदि कोई यात्री टिकट खरीदते वक्त भोजन का विकल्प चुनता है तो किराये में खानपान शुल्क अलग से जोड़ा जाएगा.

रेल मंत्रालय के एक अधिकारी द्वारा न्यूज एजेंसी भाषा को मुहैया करवाई गई जानकारी के मुताबिक शताब्दी के मुकाबले तेजस के मूलभूत किराये में 20 फीसदी से ज्यादा की बढ़ोतरी है. सुपरफास्ट सरचार्ज, आरक्षण शुल्क और खानपान शुल्क अलग से लगाए जाएंगे. (इस ट्रेन के अन्य फीचर्स जानने के लिए यहां क्लिक करें)

शताब्दी एक्सप्रेस से 20 फीसदी ज्यादा रहेगा तेजस का किराया, 22 मई से मुंबई-गोवा रूट पर चलेगी

बगैर भोजन के तेजस में एग्जिक्यूटिव श्रेणी का किराया 2,540 रुपए तय रहेगा और भोजन के साथ किराया 2,940 रुपए होगा. भोजन के साथ चेयर कार का किराया 1,850 रुपए होगा और भोजन के बगैर इसका किराया 1,220 रुपए होगा. अब अगर शताब्दी के किराए की बात करें तो इसकी एग्जिक्यूटिव श्रेणी और चेयर कार श्रेणी में क्रमश: 2,390 रूपए और 1,185 रूपए है जिसमें भोजन भी शामिल होता है.



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com