NDTV Khabar

बिहार में सत्‍ता खोने के बाद जानिए तेजस्‍वी यादव ने राहुल गांधी के लिए क्‍या कहा

विश्‍वास मत के बाद NDTV से बातचीत करते हुए तेजस्‍वी ने कहा कि राहुल गांधी को सभी विपक्षी दलों को एकजुट करने का प्रयास करना चाहिए.

7571 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
बिहार में सत्‍ता खोने के बाद जानिए तेजस्‍वी यादव ने राहुल गांधी के लिए क्‍या कहा

तेजस्‍वी यादव (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. नीतीश कुुुुमार ने एनडीए से नाता जोड़ा
  2. महागठबंधन से उन्‍होंने नाता तोड़ा
  3. तेजस्‍वी ने नीतीश पर तीखा हमला बोला
पटना: बिहार विधानसभा और उसके बाहर नीतीश कुमार के खिलाफ तीखा हमला बोलने वाले पूर्व उपमुख्‍यमंत्री तेजस्‍वी यादव ने कांग्रेस उपाध्‍यक्ष राहुल गांधी को सलाह दी है. विश्‍वास मत के बाद NDTV से बातचीत करते हुए तेजस्‍वी ने कहा कि राहुल गांधी को सभी विपक्षी दलों को एकजुट करने का प्रयास करना चाहिए और उन सबको बीजेपी के खिलाफ एक प्‍लेटफॉर्म पर लाने की कोशिश करनी चाहिए. उन्‍होंने यह भी कहा, ''राहुल गांधी बहुत ही जिम्‍मेदार राजनेता हैं. उनको इस चुनौती को स्‍वीकार करना चाहिए. जब मैं उनसे दिल्‍ली में मिला था तब भी उनसे मेरी इस मसले पर बातचीत हुई थी. वह ऐसा कर सकते हैं. वह ऐसा करने में सक्षम हैं. उनको इस दिशा में सोचना शुरू करना चाहिए.''

यह भी पढ़ें:  लालू प्रसाद यादव और नीतीश कुमार में वॉर, लालू ने समझाया 'भोग' का मतलब
बिहार: एक महीने पहले ही नौकरशाहों को सियासी उलटफेर के मिल गए थे संकेत

नीतीश ने जोड़ा एनडीए से नाता
इससे पहले शुक्रवार को नीतीश कुमार के नेतृत्‍व में बिहार में एनडीए की नई सरकार ने विधानसभा में बहुमत हासिल कर लिया. नीतीश के पक्ष में 131 वोट पड़े और विरोध में 108 वोट पड़े. राजद ने सदन से वॉकआउट किया और सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी गई है. नीतीश कुमार ने एक बार फिर दोहराया है कि जो किया बिहार के लिए किया. अब राज्य और केंद्र में एक ही सरकार होगी.

यह भी पढ़ें: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का कैबिनेट विस्तार आज, जीतनराम मांझी को मिल सकती है जगह
JDU में बगावत: लालू यादव ने कहा-शरद यादव हमारे साथ, किया फोन


VIDEO- जनादेश की जंग

आरजेडी की नाराजगी
इस दौरान विधानसभा के बाहर और अंदर RJD और कांग्रेस ने जमकर नारेबाजी की. विश्वासमत को लेकर तेजस्वी ने कहा कि अगर गुप्त मतदान होता तो नीतीश हार जाते. हमने अध्यक्ष से मांग की थी, लेकिन इसे नहीं माना गया. विधायकों को सीएम आवास में कैद रखा गया. आखिर एक मंजे हुए खिलाड़ी ने आरएसएस और बीजेपी के सामने घुटने टेक दिए हैं. नीतीश कुमार बीजेपी की गोद में जाकर बैठ गए हैं. उनके फैसले से बिहार की जनता आहत है. हम जनता के बीच जाकर सब कुछ बताएंगे.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement