NDTV Khabar

2008 से लेकर 2018 तक: 2012 में हुए सबसे कम जवान शहीद, 2018 में हुईं सबसे ज्यादा आतंकी घटनाएं

पुलवामा में हुए आतंकी हमले से देश में उबाल देखने को मिल रहा है. उरी हमले के बाद इस हमले को सबसे बड़ा हमला माना जा रहा है

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
2008 से लेकर 2018 तक: 2012 में हुए सबसे कम जवान शहीद, 2018 में हुईं सबसे ज्यादा आतंकी घटनाएं

प्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली:

पुलवामा में हुए आतंकी हमले से देश में उबाल देखने को मिल रहा है. उरी हमले के बाद इस हमले को सबसे बड़ा हमला माना जा रहा है. इस हमले में 41 जवानों के शहीद हो चुके हैं और ये चिंतित आकंड़ा बढ़ने के भी आसार जताए जा रहे हैं. सीआरपीएफ के काफिले पर कार बम से अटैक हुआ. हमले की जिम्मेदारी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली है. भारत में आतंकी हमलों का सिलसिला लंबे वक्त से चला आ रहा है. कई दशकों से चले आ रहे इस तनाव में हजारों जवानों के शहादत की आहुति दी जा चुकी है. आज आपको बताते हैं कि पिछले 10 सालों में भारत के ऊपर कितने आतंकी हमले हुए हैं. कितने आतंकियों को मार गिराया गया. इन आतंकी हमलों में कितने नागरिकों की जान गई और कितने जवान शहीद हुए. यह आंकड़े 8 दिसंबर कर गृह मंत्रालय के हैं.     

पुलवामाः शहीद होने से पहले सैनिक ने पत्नी से कहा- तुम बच्चे के साथ स्कूल चली जाना, मैं तो सीमा पर हूं


2008: कुल 708 आतंकी हमले हुए, 339 आतंकी मारे गए, 91 नागरिकों की मौत और 75 जवान शहीद हुए. 
2009: कुल 499 आतंकी हमले हुए, 239 आतंकी मारे गए, 71 नागरिकों की मौत और 78 जवान शहीद हुए. 
2010: कुल 488 आतंकी हमले हुए, 232 आतंकी मारे गए, 47 नागरिकों की मौत और 69 जवान शहीद हुए. 
2011: कुल 340 आतंकी हमले हुए, 100 आतंकी मारे गए, 31 नागरिकों की मौत और 33 जवान शहीद हुए. 
2012: कुल 220 आतंकी हमले हुए,  72 आतंकी मारे गए, 15 नागरिकों की मौत  और 15 जवान शहीद हुए. 
2013: कुल 170 आतंकी हमले हुए,  67 आतंकी मारे गए, 15 नागरिकों की मौत  और 53 जवान शहीद हुए. 
2014: कुल 222 आतंकी हमले हुए, 110 आतंकी मारे गए, 28 नागरिकों की मौत और 47 जवान शहीद हुए.
2015: कुल 208 आतंकी हमले हुए, 108 आतंकी मारे गए, 17 नागरिकों की मौत और 39 जवान शहीद हुए.  
2016: कुल 322 आतंकी हमले हुए, 150 आतंकी मारे गए, 15 नागरिकों की मौत और 82 जवान शहीद हुए. 
2017: कुल 342 आतंकी हमले हुए, 213 आतंकी मारे गए, 40 नागरिकों की मौत और 80 जवान शहीद हुए. 
2018: कुल 429 आतंकी हमले हुए, 323 आतंकी मारे गए, 77 नागरिकों की मौत और 80 जवान शहीद हुए. 

पुलवामा हमला : शहीदों में सबसे ज्यादा यूपी के जवान, परिजनों को 25 लाख और एक नौकरी देने का एलान

टिप्पणियां

ध्यान देने योग्य साल 2018 है. जहां आतंकी हमलों की संख्या 429 है, इस साल शहीद हुए जवानों की संख्या भी सबसे ज्यादा है. 80 जवानों को शहादत मिली. तो वहीं इस साल मारे गए आतंकियों की संख्या भी सबसे ज्यादा 323 रही.  

Video: पुलवामा के शहीद संजय सिन्हा के पिता बोले- बेटे की शहादत पर फख्र 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement