NDTV Khabar

सवर्ण आरक्षण पर बोले केंद्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत, कहा- 8 लाख की आय सीमा में बदलाव संभव

सरकार का कहना है कि जल्द ही नियम बना दिए जाएंगे कि आरक्षण का दायरा क्या होगा. सरकार ने यह फैसला क्यों किया? क्या उसे इसका सियासी फायदा मिलेगा?

250 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
नई दिल्ली:

सामान्य वर्ग के आर्थिक रूप से कमजोर लोगों के लिए सरकारी नौकरियों और शिक्षण संस्थानों में 10 फीसदी आरक्षण का बिल संसद ने पारित कर दिया है. अब राष्ट्रपति की मंजूरी का इंतजार है. इस बीच 'यूथ फॉर इक्वालिटी' ने बिल में संशोधन की मांग करते हुए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर दी है. उसका कहना है आर्थिक आधार पर आरक्षण सही है मगर यह पचास फीसदी के भीतर ही हो. इस बीच, सरकार का कहना है कि जल्द ही नियम बना दिए जाएंगे कि आरक्षण का दायरा क्या होगा. सरकार ने यह फैसला क्यों किया? क्या उसे इसका सियासी फायदा मिलेगा? सुप्रीम कोर्ट में कानून को चुनौती पर वो क्या करेगी? इन तमाम सवालों के जवाब दिए सामाजिक न्याय व अधिकारिता मंत्री थावरचंद गहलोत ने. 

VIDEO: रामदास अठावले की तुकबंदी से 'छलित' हुए कुमार विश्वास, बोले- ऐसे 'हल्के-फुल्के' लोकतंत्र की जय हो‬


सरकार की सोच क्या है 

थावर चंद गहलोत ने कहा कि गरीबों को समर्पित सरकार और सबका साथ-सबका विकास के नारे को ध्यान में रखते हुए कई ऐतिहासिक फैसले लिए गए. सरकार की सोच को साकार रूप देने के लिए ही यह बनाया गया है. 

सामान्य श्रेणी कोटा पर अमर्त्य सेन बोले- इसके गंभीर राजनीतिक और आर्थिक प्रभाव पड़ सकते हैं

क्या जरूरत थी

इस सवाल का जवाब देते हुए सामाजिक न्याय व अधिकारिता मंत्री ने कहा कि मंडल कमीशन जब बना था तो उसमें भी सामान्य वर्ग के गरीब तबके को आरक्षण का जिक्र किया गया था. समय-समय पर सदनों में ऐसी मांगें उठी थी. देश में कई जगहों पर इसकी मांग हो रही थी. इसकी आवश्यकता को मोदी सरकार ने महसूस किया और अब यह विधेयक कानून का रूप ले रहा है. 

सवर्णों के आरक्षण पर संसद की मुहर: किसी ने बताया 'राजनीतिक स्टंट', तो किसी ने सवर्णों से 'धोखा', 10 खास बातें

क्या हार के बाद लिया गया यह फैसला 

इस सवाल का जवाब देते हुए थावर चंद गहलोत ने कहा कि सबका विकास और सबका साथ नारे के साथ गरीबों के लिए प्रतिबद्ध सरकार ने फैसला लिया है. इसके समय को लेकर इसके सियासी मायने निकाले जा रहे हैं. लेकिन कुल मिलाकर गरीबों के लिए बनी सरकार ने सपने को साकार करने के लिए यह कदम उठाया है. ऐसे फैसलों के फायदे और नुकसान दोनों होते हैं. लेकिन सामान्य वर्ग के लोगों को मुख्य धारा में लाना इसका मुख्य उद्देश्य है. 

टिप्पणियां

RJD सांसद मनोज झा ने सदन में दिखाया झुनझुना, सरकार की नीति और नीयत पर उठाए सवाल

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि राष्ट्रपति के हस्ताक्षर के बाद यह अधिनियम नोटिफाई होगा उसके बाद आय सीमा का निर्धारण किया जाएगा और फिर इस पर काम किया जाएगा. उन्होंने कहा कि भारत सरकार जल्द ही कार्रवाई कर देगी लेकिन राज्यों पर निर्भर करता है कि वह इसे कब तक लागू करते हैं. आयसीमा 8 लाख के सवाल पर गहलोत ने कहा कि अभी इस पर विमर्श करेंगे, हो सकता है कि इस पर बदलाव हो कर जाए या फिर संभावना यह भी है कि ऐसा ही लागू कर दिया जाएगा. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement