Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

धार्मिक स्थलों पर महिलाओं के प्रवेश के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट में बहस की समय सीमा तय

धार्मिक प्रथाओं के संवैधानिक पहलू को लेकर दाखिल याचिकाओं के सभी पक्षों के वकीलों की सुप्रीम कोर्ट के सेक्रेट्री जनरल के साथ मीटिंग हुई

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
धार्मिक स्थलों पर महिलाओं के प्रवेश के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट में बहस की समय सीमा तय

प्रतीकात्मक फोटो.

नई दिल्ली:

सबरीमला मंदिर सहित अन्य धार्मिक स्थलों में महिलाओं के प्रवेश पर रोक और धर्म का अभिन्न हिस्सा बताने वाली धार्मिक प्रथाओं के संवैधानिक पहलू को लेकर दाखिल याचिकाओं के सभी पक्षों के वकीलों की आज सुप्रीम कोर्ट के सेक्रेट्री जनरल के साथ मीटिंग हुई. मीटिंग में तय हुआ कि 10-10 दिन सभी पक्षों को बहस करने के लिए मिलेंगे. यानी याचिका के समर्थन करने वालों को 10 दिन और विरोध करने वालों को 10 दिनों का वक्त मिलेगा. दो दिन जॉइंडर बहस के लिए तय किए गए हैं.

टिप्पणियां

केंद्र सरकार की तरफ से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता बहस करेंगे. उनकी बहस की सीमा हालांकि तय नहीं हुई. बहस की शुरुआत वरिष्ठ वकील के परासरण करेंगे. वहीं पारसी समुदाय के लिए बहस वरिष्ठ वकील फली नरीमन करेंगे. इसके अलावा अभिषेक मनु सिंघवी, सीएस वैद्यनाथन, राजीव धवन, वी गिरी, इंदिरा जयसिंह और अन्य भी बहस करेंगे.


नौ जजों की संविधान पीठ ने सभी पक्षों के वकीलों को सेक्रेट्री जनरल के साथ मिलकर तय करने को कहा था कि कौन वकील बहस की शुरुआत करेगा और बहस के किस पक्ष को कितना समय चाहिए. नौ जजों की संविधान पीठ तीन फरवरी को मामले की अगली सुनवाई करेगी.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें. India News की ज्यादा जानकारी के लिए Hindi News App डाउनलोड करें और हमें Google समाचार पर फॉलो करें


 Share
(यह भी पढ़ें)... IND vs BAN: शेफाली वर्मा ने ताबड़तोड़ छक्के जड़कर तोड़ा बांग्लादेश का 'गुरूर', देखें पारी का पूरा Video

Advertisement