Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

देश के मुस्लिमों में बेचैनी का अहसास और असुरक्षा की भावना : हामिद अंसारी

आज पूरा हो रहा 80 वर्षीय उप-राष्ट्रपति हामिद अंसारी का दूसरा कार्यकाल

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
देश के मुस्लिमों में बेचैनी का अहसास और असुरक्षा की भावना : हामिद अंसारी

निवर्तमान उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी ने एक इंटरव्यू में मुस्लिमों में असुरक्षा की भावना का मुद्दा उठाया है.

खास बातें

  1. असहनशीलता का मुद्दा प्रधानमंत्री और केंद्रीय मंत्रियों के सामने उठाया
  2. अदालतों को दखल नहीं देना चाहिए, सुधार समुदाय के भीतर से ही होंगे
  3. भारतीय मूल्य बेहद कमजोर होते जा रहे
नई दिल्ली:

देश के मुस्लिमों में बेचैनी का अहसास और असुरक्षा की भावना है. स्वीकार्यता का माहौल खतरे में है. यह बात निवर्तमान उप-राष्ट्रपति हामिद अंसारी ने कही है. उन्होंने यह टिप्पणी ऐसे समय में की है जब असहनशीलता और कथित गौरक्षकों की गुंडागर्दी की घटनाएं सामने आई हैं और कुछ भगवा नेताओं की ओर से अल्पसंख्यक समुदाय के खिलाफ बयान दिए गए हैं.

उप-राष्ट्रपति के रूप में 80 साल के हामिद अंसारी का दूसरा कार्यकाल बुधवार को पूरा हो रहा है. अंसारी ने कहा कि उन्होंने असहनशीलता का मुद्दा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके कैबिनेट सहयोगियों के सामने उठाया है . उन्होंने इसे ‘‘परेशान करने वाला विचार’’ करार दिया कि नागरिकों की भारतीयता पर सवाल उठाए जा रहे हैं.

राज्यसभा टीवी पर जानेमाने पत्रकार करण थापर को दिए गए एक इंटरव्यू में जब अंसारी से पूछा गया कि क्या उन्होंने अपनी चिंताओं से प्रधानमंत्री को अवगत कराया है, तो उप-राष्ट्रपति ने ‘‘हां’’ कहकर जवाब दिया. देश के उप-राष्ट्रपति होने के नाते संसद के उच्च सदन राज्यसभा के सभापति का पद भी संभाल रहे अंसारी ने कहा, ‘‘हां..हां . लेकिन उप-राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के बीच क्या बातें हो रही हैं, यह विशेषाधिकार वाली बातचीत के दायरे में ही रहना चाहिए.’’ उन्होंने यह भी कहा कि अन्य केंद्रीय मंत्रियों के सामने भी उन्होंने इस मुद्दे को उठाया है.


सरकार की प्रतिक्रिया पूछे जाने पर अंसारी ने कहा, ‘‘यूं तो हमेशा एक स्पष्टीकरण होता है और एक तर्क होता है. अब यह तय करने का मामला है कि आप स्पष्टीकरण स्वीकार करते हैं कि नहीं और आप तर्क स्वीकार करते हैं कि नहीं.’’ इस इंटरव्यू में अंसारी ने भीड़ की ओर से लोगों को पीट-पीटकर मार डालने की घटनाओं, ‘घर वापसी’ और तर्कवादियों की हत्याओं का हवाला देते हुए कहा कि यह ‘‘भारतीय मूल्यों का बेहद कमजोर हो जाना, सामान्य तौर पर कानून लागू करा पाने में विभिन्न स्तरों पर अधिकारियों की योग्यता का चरमरा जाना है और इससे भी ज्यादा परेशान करने वाली बात किसी नागरिक की भारतीयता पर सवाल उठाया जाना है.’’

यह भी पढ़ें : संसद का मॉनसून सत्र : राज्यसभा में हामिद अंसारी का फेयरवेल, पीएम मोदी बोले- उनके परिवार का देश को बढ़ा योगदान

यह पूछे जाने पर कि क्या वह इस बात से सहमत हैं कि मुस्लिम समुदाय में एक तरह की शंका है और जिस तरह के बयान उन लोगों के खिलाफ दिए जा रहे हैं, उससे वे असुरक्षित महसूस कर रहे हैं, इस पर अंसारी ने कहा, ‘‘हां, यह आकलन सही है.’’ उप-राष्ट्रपति ने कहा, ‘‘हां, यह एक सही आकलन है, जो मैं देश के अलग-अलग हलकों से सुनता हूं. मैंने बेंगलुरु में यही बात सुनी. मैंने देश के अन्य हिस्सों में भी यह बात सुनी. मैं इस बारे में उत्तर भारत में ज्यादा सुनता हूं. बेचैनी का अहसास है और असुरक्षा की भावना घर कर रही है.’’ यह पूछे जाने पर कि क्या मुस्लिमों को ऐसा लगने लगा है कि वे ‘अवांछित’ हैं, इस पर अंसारी ने कहा, ‘‘मैं इतनी दूर नहीं जाऊंगा, असुरक्षा की भावना है.’’ ‘तीन तलाक’ के मुद्दे पर अंसारी ने कहा कि यह एक ‘सामाजिक विचलन’ है, कोई धार्मिक जरूरत नहीं.

यह भी पढ़ें : धर्मनिरपेक्षता के मूल सिद्धांतों को पुनर्जीवित करना मुख्य चुनौती : हामिद अंसारी

उन्होंने कहा, ‘‘पहली बात तो यह कि यह एक सामाजिक विचलन है, यह कोई धार्मिक जरूरत नहीं है. धार्मिक जरूरत बिल्कुल स्पष्ट है, इस बारे में कोई दो राय नहीं है. लेकिन पितृसत्ता, सामाजिक रीति-रिवाज इसमें घुसकर हालात को ऐसा बना चुके हैं जो अत्यंत अवांछित है.’’ उन्होंने कहा कि अदालतों को इस मामले में दखल नहीं देना चाहिए, क्योंकि सुधार समुदाय के भीतर से ही होंगे.

टिप्पणियां

VIDEO : मुद्दा अल्पसंख्यक आरक्षण का

कश्मीर मुद्दे पर अंसारी ने कहा कि यह राजनीतिक समस्या है और इसका राजनीतिक समाधान ही होना चाहिए.
(इनपुट एजेंसियों से)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... IND vs NZ: दीप्ती शर्मा ने मारा ऐसा बोल्ड, गुस्से में जमीन पर बैट मारने लगी बल्लेबाज, देखें Video

Advertisement