भारत सहित 18 आसियान देशों का संयुक्त युद्धाभ्यास मार्च में

भारत सहित 18 आसियान देशों का संयुक्त युद्धाभ्यास मार्च में

प्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली:

ऐसा इतिहास में पहली बार होने जा रहा है जब भारतीय सेना एक या दो नहीं बल्कि 18 आसियान देशों के साथ अब तक का सबसे बड़ा युद्धाभ्यास करने जा रही है। इस अभ्यास में पड़ोसी देश चीन तो हिस्सा ले रहा है लेकिन पाकिस्तान नहीं, क्योंकि वह आसियान का सदस्य नहीं है।

पुणे में अभ्यास, 360 सैन्य कर्मी होंगे शामिल
यह अभ्यास दो से 18 मार्च तक पुणे में होने जा रहा है। इस फील्ड ट्रेनिंग अभ्यास का कोड नाम दिया गया है 'एक्सरसाइज फोर्स एट्टीन'। इसमें करीब 360 सैन्य कर्मी हिस्सा लेंगे। अभ्यास का फोकस मानवीय माइंस एक्शन और शांति अभियानों के लिए सेना के इस्तेमाल पर है। अभ्यास किया जाएगा कि अगर किसी रिहाइशी इलाके में आतंकियों ने विस्फोटक लगा दिया हो तो कैसे यूएन चार्टर के मुताबिक उसे हटाया जाए।

आपस में अनुभव साझा करने का मौका
यह अभ्यास भारतीय सेना को मौका देगी की वह विदेशी सेनाओं के साथ अपने अनुभव साझा करे और उनसे कुछ सीखे। आसियान देशों के करीब 75 सदस्यो ने इसको लेकर तीन दिन चली फाइनल प्लानिंग कांफ्रेंस में हिस्सा लिया जो 12  से 14 जनवरी तक पुणे में हुई। इस कांफ्रेंस में आए प्रतिभागियों ने उन इलाकों का दौरा किया जहां यह अभ्यास होना है। विदेशी प्रतिनिधि नेशनल डिफेंस एकेडमी भी जाएंगे। यह अभ्यास मिलजुलकर शांति और सुरक्षा को बनाए रखने की एक कोशिश है।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com