NDTV Khabar

जम्मू-कश्मीर को लेकर विपक्ष का सवाल- कैसा खतरा, क्यों बढ़ रही सुरक्षा बलों की तैनाती?

कांग्रेस के महासचिव पीएल पुनिया ने जम्मू-कश्मीर में आतंकी खतरे को लेकर अमरनाथ यात्रियों को सरकार की ओर से दी गई सलाह पर उठाया सवाल

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जम्मू-कश्मीर को लेकर विपक्ष का सवाल- कैसा खतरा, क्यों बढ़ रही सुरक्षा बलों की तैनाती?

जम्मू-कश्मीर में इन दिनों अमरनाथ यात्रा जारी है.

खास बातें

  1. कहा- क्या आर्टिकल 35 ए एब्रोगेट करने की तैयारी है?
  2. सोमवार को संसद में मांग करेंगे कि सरकार बयान दे
  3. पीडीपी सांसद मीर फयाज ने कहा, अनुच्छेद 35 ए हटने नहीं देंगे
नई दिल्ली:

अमरनाथ यात्रियों और पर्यटकों से सुरक्षा को लेकर खतरे के मद्देनजर जम्मू-कश्मीर से लौटने के लिए कहा गया है. सेना व सुरक्षा बलों ने आतंकी खतरे की आशंका जताई है. दूसरी तरफ जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बलों की तादाद बढ़ा दी गई है. इसको लेकर विपक्ष के नेताओं ने मोदी सरकार से सवाल किए हैं. कांग्रेस के महासचिव पीएल पुनिया ने कहा है कि सरकार को संसद में सारी जानकारी रखनी चाहिए कि वह जम्मू-कश्मीर में क्या करने वाली है?  पीडीपी के सांसद मीर फयाज ने कहा है कि कश्मीर ट्रुप अभी क्यों भेजे जा रहे हैं? अनुच्छेद 35 ए का मामला अभी सुप्रीम कोर्ट में है. उसे हटने नहीं देंगे.

कांग्रेस के महासचिव पीएल पुनिया ने जम्मू-कश्मीर में आतंकी खतरे और सुरक्षा के हालात को लेकर अमरनाथ यात्रियों को सरकार की ओर से दी गई सलाह पर एनडीटीवी से कहा कि जम्मू-कश्मीर एक संवेदनशील राज्य है. सरकार को संसद में सारी जानकारी रखनी चाहिए कि वह वहां क्या करने वाली है. हजारों ट्रुप वहां क्यों भेजे जा रहे हैं. क्या आर्टिकल 35 ए एब्रोगेट (अभिनिषेध) करने की तैयारी है? उन्होंने कहा कि हम सोमवार को संसद में मांग करेंगे कि सरकार संसद में बयान दे.


पीडीपी के सांसद मीर फयाज ने कश्मीर के हालात को लेकर अमरनाथ यात्रियों जारी सलाह पर कहा कि हमें समझ नहीं आ रहा है कि कश्मीर ट्रुप अभी क्यों भेजे जा रहे हैं? अनुच्छेद 35 ए का मामला अभी सुप्रीम कोर्ट में है. आर्टिकल 35 ए और आर्टिकल 370 को हटाना मामूली बात नहीं है. हम मरेंगे लेकिन उन्हें हटने नहीं देंगे.

आतंकी हमले के खतरे को देखते हुए सरकार ने अमरनाथ यात्रियों और पर्यटकों को जम्मू-कश्मीर से लौटने की सलाह दी

जम्मू-कश्मीर सरकार के गृह विभाग ने अमरनाथ यात्रियों और पर्यटकों से सुरक्षा को लेकर खतरे के मद्देनजर जम्मू-कश्मीर से लौटने के लिए कहा है. सेना और जम्मू-कश्मीर पुलिस ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कहा कि पाकिस्तान कश्मीर घाटी में अशांति फैलाने की लगातार कोशिशें कर रहा है. इसके लिए सीमा पार से आतंकवादियों की घुसपैठ कराने की कोशिशें हो रही हैं.15 कोर कमांडर लेफ़्टिनेंट जनरल केजेएस ढिल्लन ने कहा कि इस तरह के इंटरनेशनल इनपुट्स मिले हैं कि आतंकी अमरनाथ यात्रा पर हमले की साज़िश रच रहे हैं.   

जम्मू-कश्मीर सरकार ने यात्रियों और पर्यटकों को घाटी छोड़ने को कहा, तो उमर अब्दुल्ला बोले...

अमरनाथ यात्रा को लेकर लेफ्टिनेंट जनरल केजेएस ढिल्‍लन ने संवाददाताओं से कहा, 'पिछले तीन-चार दिनों में बहुत ही स्‍पष्‍ट और पुष्‍ट खुफिया जानकारी मिली है कि पाकिस्‍तानी सेना द्वारा समर्थित आतंकी अमरनाथ यात्रा बाधित करने की फिराक में हैं और उसके आधार पर यात्रा के दोनों मार्गों, दक्षिण की तरफ के पहलगाम वाले रास्‍ते और उत्तर की तरफ के बालटाल वाले रास्‍तों पर सेना और सीआरपीएफ की टीमों में संयुक्‍त रूप से गहन तलाशी अभियान चलाया है. यहां तक कि पवित्र गुफा तक जाने वाले पैदल मार्ग की भी पिछले तीन दिनों से लगातार जांच की जा रही है.'

अमरनाथ यात्रा के रास्ते से पाकिस्तान में बनी लैंडमाइन और स्नाइपर राइफल बरामद : सेना

VIDEO : सैलानियों को कश्मीर घाटी छोड़ने की सलाह

टिप्पणियां



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement