NDTV Khabar

सुप्रीम कोर्ट ने कहा- क्या मौत की सजा के रूप में प्रतिशोध स्वयं समाज को संतुष्ट करता है?

कहा- मौत के सजा याफ्ताओं की लंबी लाइन को देखते हुए इसे कम करने पर विचार किया जाना चाहिए, कोर्ट ने दो लोगों की मौत की सजा घटाकर उम्रकैद की

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सुप्रीम कोर्ट ने कहा- क्या मौत की सजा के रूप में प्रतिशोध स्वयं समाज को संतुष्ट करता है?

प्रतीकात्मक फोटो.

खास बातें

  1. समाज पर मौत की सजा के निवारक प्रभाव पर कोई निर्णायक अध्ययन नहीं
  2. मौत की सजा देने के दौरान सामाजिक आर्थिक कारकों को ध्यान में रखा जाए
  3. एक मानक अवधि अपनाई जाए ताकि मौत की सजा पाने वालों को उम्रकैद मिल सके
नई दिल्ली:

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि उम्रकैद या मौत की सजा देने के दौरान सामाजिक आर्थिक कारकों को ध्यान में रखा जाना चाहिए. कोर्ट ने ये भी कहा है कि मौत की सजा याफ्ता की लंबी लाइन को देखते हुए भी सजा को कम करने पर विचार किया जाना चाहिए.

सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि समाज पर मौत की सजा के निवारक प्रभाव पर कोई निर्णायक अध्ययन नहीं है. ऐसी ही टिप्पणियां करते हुए सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस मदन बी लोकुर की अगुवाई में तीन जजों की बेंच ने केरल में एक परिवार के 6 सदस्यों के हत्यारे की मौत की सजा और महाराष्ट्र में तीन साल की लड़की के बलात्कार और हत्या करने वाले की सजा घटाकर उम्रकैद कर दी.

पीठ ने कहा कि हालांकि दोषी की सामाजिक-आर्थिक स्थिति उनके अपराध को अस्वीकार करने का एक ही कारक नहीं है लेकिन ये एक कारक है जिस पर उचित सजा देने के प्रयोजनों के लिए विचार किया जाना चाहिए.


यह भी पढ़ें : सुप्रीम कोर्ट ने छत्तीसगढ़ में तीन लोगों के हत्यारे की फांसी की सजा उम्रकैद में बदली

पहले मामले में केरल में एंटनी ने जनवरी 2001 में एक परिवार के छह सदस्यों की हत्या कर दी थी. 2005 में निचली अदालत ने उन्हें  हत्याओं के लिए मौत की सजा सुनाई और 2006 में केरल उच्च न्यायालय ने इसकी पुष्टि की. 2009 में सुप्रीम कोर्ट ने एंटनी की अपील को खारिज कर दिया और मौत की सजा की पुष्टि की. उसकी पुनर्विचार याचिका को भी खारिज कर दिया गया था, लेकिन शीर्ष अदालत के उस फैसले के बाद मामले को फिर से खोल दिया गया था कि पुनर्विचार याचिकाओं को तीन जजों द्वारा खुली अदालत में सुना जाना चाहिए.

फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि एक धारणा है (शायद गलत है) कि केवल गरीबों और मोहताज को ही मृत्युदंड दिया जाता है जबकि अमीरों को छोड़ दिया जाता है. ऐसे में आर्थिक और सामाजिक परिवेश को देखा जाना बहुत जरूरी है. फैसले को लिखते हुए न्यायमूर्ति लोकुर ने कहा, "ऐसे कई मामले हैं जहां छह साल से अधिक समय तक अभियुक्त मौत की सजा की लाइन में है. एक मानक अवधि अपनाई जानी चाहिए ताकि मौत की सजा पाने वालों को उम्रकैद मिल सके.

यह भी पढ़ें : निर्भया मामले में दोषियों को फांसी दिलाने के लिए जनहित याचिका दायर

एक और मामले में इसी पीठ ने राजेंद्र  प्रहलादराल वासनिक की मौत की सजा को मृत्यु तक उम्रकैद में बदल दिया. वासनिक को तीन साल की लड़की के साथ बलात्कार और हत्या के लिए मौत की सजा सुनाई गई थी.
पुनर्विचार याचिका का फैसला करते हुए न्यायमूर्ति मदन बी लोकुर ने लिखा, "मौत की सजा"  इन कुछ शब्दों का कठोर आपराधिक समेत किसी पर भी Chilly Effect पड़ता है. हमारा समाज अपने निवारक प्रभाव के आधार पर ऐसी सजा मांगता है. हालांकि इसके निवारक प्रभाव पर कोई निर्णायक अध्ययन नहीं है. हमारा समाज भी एक भयानक अपराध के लिए मृत्यु के रूप में मौत की सजा की मांग करता है. हालांकि फिर से कोई निर्णायक अध्ययन नहीं है कि क्या प्रतिशोध स्वयं समाज को संतुष्ट करता है."

टिप्पणियां

VIDEO : बच्चियों से रेप पर सजा-ए-मौत क्या सही?

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि दोनों निचली अदालत और उच्च न्यायालय ने समाज में अपीलकर्ता के सुधार, पुनर्वास और सामाजिक पुन: एकीकरण की संभावना पर विचार नहीं किया.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement