NDTV Khabar

प्रियंका गांधी बोलीं- 'नोटबंदी सारी बीमारियों का शर्तिया इलाज', सरकार और इसके नीम-हक़ीमों द्वारा किए गए दावे धराशायी

कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा ने शुक्रवार को मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि नोटबंदी एक ‘आपदा’ साबित हुई है जिसने देश की अर्थव्यवस्था को बर्बाद कर दिया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
प्रियंका गांधी बोलीं- 'नोटबंदी सारी बीमारियों का शर्तिया इलाज', सरकार और इसके नीम-हक़ीमों द्वारा किए गए दावे धराशायी

कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. नोटबंदी के तीन साल
  2. प्रियंका गांधी का निशाना
  3. नीम-हकीमों का फैसला बताया
नई दिल्ली:

कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा ने शुक्रवार को मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि नोटबंदी एक ‘आपदा' साबित हुई है जिसने देश की अर्थव्यवस्था को बर्बाद कर दिया. प्रियंका ने आठ नवंबर को नोटबंदी के तीन साल पूरे होने के मौके पर मोदी सरकार पर हमला बोला. उन्होंने लिखा, “नोटबंदी को तीन साल हो गए.  सरकार और इसके नीम-हक़ीमों द्वारा किए गए, ‘नोटबंदी सारी बीमारियों का शर्तिया इलाज' के सारे दावे एक-एक करके धराशायी हो गए. नोटबंदी एक आपदा साबित हुई जिसने हमारी अर्थव्यवस्था बर्बाद कर दी. इस ‘तुग़लकी' कदम की जिम्मेदारी अब कौन लेगा?” प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आठ नवंबर, 2016 को 500 और 1,000 रुपए के नोटों को चलन से बाहर करने की घोषणा की थी.


आपको बता दें कि पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह, पूर्व वित्त मंत्री पी.चिदंबरम और राहुल गांधी सहित कांग्रेस के सभी नेता अर्थव्यवस्था में आई मंदी को नोटबंदी का फैसला वजह बताते रहे हैं. गुजरात विधानसभा चुनाव  के समय भी राहुल गांधी ने नोटबंदी को ही मुद्दा बनाया था. कुछ दिन पहले डॉ. मनमोहन सिंह ने कहा था कि यह परेशान करने वाला है कि मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में ग्रोथ रेट 0.6 फीसदी पर लड़खड़ा रही है. इससे साफ जाहिर होता है कि हमारी अर्थव्यवस्था अभी तक नोटबंदी और हड़बड़ी में लागू किए गए जीएसटी से उबर नहीं पाई है. 

देश आर्थिक मंदी की ओर, सरकार अर्थव्यवस्था संभाले : मनमोहन सिंह​

अन्य बड़ी खबरें :

तिहाड़ जेल में बंद चिदंबरम बोले- पूर्व आर्थिक सलाहकार ने माना कि गलत तरीके से लागू किया गया GST, तभी आई मंदी

मानहानि के 2 मामलों में आज कोर्ट में पेश होंगे राहुल गांधी, यह है पूरा मामला

देश आर्थिक मंदी की ओर, सरकार राजनीतिक बदले का एजेंडा छोड़े और अर्थव्यवस्था संभाले : मनमोहन सिंह

टिप्पणियां



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement