NDTV Khabar

यूपी: BJP नेता का गोली मारकर किया मर्डर, एक सप्ताह में तीसरे नेता की हत्या

शनिवार को भाजपा के नगरसेवक 47 वर्षीय धारा सिंह जब देवबंद से सहारनपुर नौकरी के लिए जा रहे थे तो रास्ते में रेलवे क्रॉसिंग पर दो बाइक सवारों ने उन्हें रोककर फायरिंग कर दी, जिससे मौके पर ही उनकी मौत हो गई.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
यूपी: BJP नेता का गोली मारकर किया मर्डर, एक सप्ताह में तीसरे नेता की हत्या

सहारनपुर में एक सप्ताह में तीसरे बीजेपी नेता की हत्या

खास बातें

  1. सहारनपुर के चीनी मिल में सेक्टर प्रभारी थे धारा सिंह
  2. रेलवे क्रॉसिंग के पास रोककर बाइक सवारों ने की फायरिंग
  3. जिले में इससे पहले दो और बीजेपी नेताओं की हो चुकी है हत्या
देवबंद:

उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के एक और कार्यकर्ता की गोली मारकर हत्या कर दी गई. राज्य में एक सप्ताह में यह भाजपा के तीसरे कार्यकर्ता की हत्या है. शनिवार को भाजपा के पार्षद 47 वर्षीय धारा सिंह जब देवबंद से सहारनपुर नौकरी पर जा रहे थे तो रास्ते में रेलवे क्रॉसिंग पर दो बाइक सवारों ने उन्हें रोककर फायरिंग कर दी, जिससे मौके पर ही उनकी मौत हो गई. धारा सिंह सहारनपुर की एक स्थानीय चीनी मिल में सेक्टर प्रभारी के रूप में कार्यरत थे. 

उत्तर प्रदेश के देवबंद में BJP नेता की गोली मारकर हत्या

धारा सिंह की हत्या के बारे में बताते हुए सहारनपुर के एसएसपी दिनेश कुमार ने कहा, 'अज्ञात हमलावरों ने रनखंडी रेलवे क्रॉसिंग के पास धारा सिंह पर गोलियां चलाईं, जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गए. उन्हें सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया. बाद में उनके शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है.' हालांकि पुलिस अभी तक हत्या के पीछे के कारण का पता नहीं लगा सकी है. एसएसपी ने कहा, 'हम मृतक के परिवार के सदस्यों से बात कर रहे हैं और हत्या के पीछे के संभावित मकसद का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं.'


बीजेपी नेता और उसके परिवार पर घर में घुसकर बरसाईं गोलियां, 5 को मौत के घाट उतारा

टिप्पणियां

बता दें, इससे पहले 8 अक्टूबर को देवबंद में ही भाजपा के एक दूसरे नेता चौधरी यशपाल सिंह को इसी तरह से गोली मार दी गई थी. इसके दो दिन बाद एक अन्य भाजपा नेता कबीर तिवारी की बस्ती में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. कबीर तिवारी पूर्व छात्र नेता थे. उनकी हत्या के बाद छात्रों के एक समूह ने सड़क पर प्रदर्शन किया था और सरकारी वाहनों को आग लगा दी थी. इन हत्याओं के बाद एसपी पंकज कुमार का तबादला कर दिया गया और उनके खिलाफ विभागीय जांच शुरू कर दी गई. बाद में पंकज कुमार के तबादले के बारे में अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) अवनीश अवस्थी ने कहा था, 'प्रारंभिक निष्कर्षों से पता चलता है कि पंकज कुमार ने मामलों को संभालने में लापरवाही बरती है. कुमार को गैर जिम्मेदाराना कार्य का दोषी पाया गया है. यह पाया गया कि उन्होंने डीआईजी रेंज, बस्ती द्वारा जारी चेकलिस्ट को ठीक से सुनिश्चित नहीं किया था.'

रवीश कुमार का प्राइम टाइम: मुर्शिदाबाद में 50 मिनट के भीतर परिवार के तीन लोगों की हत्या​



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement