कर्नाटक के इस मंत्री को ‘इनोवा’ नहीं; 'फॉर्च्युनर' चाहिए, बचपन से बड़ी कार की आदत!

खाद्य और नागरिक आपूर्ति मंत्री बीजेड जमीर अहमद खान के बड़ी कार की मांग के बयान की बीजेपी ने की आलोचना

कर्नाटक के इस मंत्री को ‘इनोवा’ नहीं; 'फॉर्च्युनर' चाहिए, बचपन से बड़ी कार की आदत!

कर्नाटक के मंत्री बीजेड जमीर अहमद खान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ (फाइल फोटो).

खास बातें

  • मंत्री बीजेड जमीर अहमद खान के पास 100 लग्जरी बसों का काफिला
  • बीजेपी ने कहा, सौ बसों के मालिक खान को अपनी कार में चलना चाहिए
  • कांग्रेस ने कहा, मंत्री की विशेष वाहन की मांग में कुछ भी गलत नहीं
बेंगलुरु:

कर्नाटक के एक मंत्री को 'इनोवा' कार पसंद नहीं है. उन्होंने टोयोटा की 'फॉर्च्युनर' कार की मांग की है क्योंकि उन्हें
बचपन से ही वह बड़ी कारों में चलने की आदत है. खाद्य और नागरिक आपूर्ति मंत्री बीजेड जमीर अहमद खान के इस मांग संबंधी बयान पर विपक्षी पार्टी बीजेपी ने उनको घेर लिया है.
 
कर्नाटक के मंत्री खान ने आज एक कहकर विवाद पैदा कर दिया कि उन्होंने सरकारी इस्तेमाल के लिए टोयोटा 'फॉर्च्युनर' कार की मांग की है क्योंकि वे बचपन से ही वह बड़ी कारों में चलने के आदी रहे हैं. उनके इस बयान की विपक्षी दल बीजेपी ने आलोचना की है. कांग्रेस ने उनका बचाव किया है.

यह भी पढ़ें : राहुल गांधी 'निपाह वायरस' की तरह; जो भी साथ जाएगा, खत्म होगा : अनिल विज

खाद्य और नागरिक आपूर्ति मंत्री बीजेड जमीर अहमद खान ने कहा कि उन्हें टोयोटा इनोवा की मंजूरी दी गई है जिसे वह कम स्तर की मानते हैं और इसलिए 'फॉर्च्युनर' की मांग की है. व्यवसायी परिवार के खान ने पत्रकारों से कहा कि ‘‘मैं बचपन से ही बड़ी कारों से चलता रहा हूं. मुझे इनोवा की मंजूरी दी गई है. मैं इसे आरामदायक नहीं मानता क्योंकि मैं हमेशा बड़ी कारों से चलता रहा हूं. इनोवा छोटे स्तर की कार है.’’

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

VIDEO : मध्यप्रदेश के दो मंत्री विवादों में

बताया जाता है कि खान के पास 100 लग्जरी बसों का काफिला है. मंत्री की मांग पर बीजेपी के प्रवक्ता एस प्रकाश ने कहा कि खान के पास 100 लग्जरी बसों का काफिला है, उन्हें अपनी कार में चलना चाहिए. दूसरी तरफ कांग्रेस के सांसद सैयद नसीर हुसैन ने खान का बचाव करते हुए कहा कि मंत्री किसी विशेष वाहन की मांग कर रहे हैं तो इसमें कुछ भी गलत नहीं है.
(इनपुट भाषा से)