TMC सांसद और ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी ने BJP अध्यक्ष अमित शाह को भेजा कानूनी नोटिस

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी ने 11 अगस्त को एक जन रैली में उनके खिलाफ मानहानिकारक बयान देने के लिए बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को कानूनी नोटिस भेजा.

TMC सांसद और ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी ने BJP अध्यक्ष अमित शाह को भेजा कानूनी नोटिस

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह. (फाइल फोटो)

कोलकाता:

तृणमूल युवा कांग्रेस के अध्यक्ष और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी ने 11 अगस्त को एक जन रैली में उनके खिलाफ मानहानिकारक बयान देने के लिए बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को कानूनी नोटिस भेजा. उनके वकील संजय बसु ने कहा कि कानूनी नोटिस में शाह से लोकसभा सांसद अभिषेक बनर्जी के खिलाफ कथित रूप से मानहानि वाले बयान देने के लिए माफी मांगने को कहा गया है.

यह भी पढ़ें : ममता बनर्जी के गढ़ में बोले अमित शाह- TMC के शासन को बंगाल से उखाड़ फेंकना है

बसु ने शाह से 'नोटिस मिलने के 72 घंटे के अंदर एक उचित संवाददाता सम्मेलन कर मेरे मुवक्किल के खिलाफ दिए गए उग्र एवं दुर्भावनापूर्ण बयान वापस लेते हुए बिना शर्त के माफी मांगने' को कहा. नोटिस में शाह से कहा गया कि उन्होंने अपने भाषण के दौरान पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री के 'भतीजे' के खिलाफ हल्के तौर पर इशारा करते हुए गंभीर आरोप लगाए.

यह भी पढ़ें : BJP अध्यक्ष अमित शाह बोले- जरूर जाऊंगा पश्चिम बंगाल, 'गिरफ्तार करना है तो करें'
 


इसमें कहा गया, 'चूंकि यह सबको पता है कि मेरे मुवक्किल ममता बनर्जी के भतीजे हैं और राजनीति में सक्रिय है, आपके भाषण से मेरे मुवक्किल के शुभचिंतकों को पता चल गया कि आप मेरे मुवक्किल की तरफ संकेत कर रहे थे.' वकील ने दावा किया कि इन 'फर्जी बयानों' से अपने शुभचिंतकों एवं देश के नागरिकों के बीच उनके मुवक्किल की प्रतिष्ठा को गंभीर नुकसान पहुंचा है. 

VIDEO : कोलकाता में बोले अमित शाह, ममता नहीं रोक सकतीं NRC

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

बसु ने कहा कि अभिषेक इस आरोप से 'इनकार करते हैं कि वह केंद्र से पश्चिम बंगाल राज्य को कथित रूप से मिले 3,59,000 करोड़ रुपये या किसी भी दूसरी धनराशि में कथित रूप से किसी हेरफेर में शामिल हैं.' नोटिस में शाह से अभिषेक के खिलाफ मानहानि करने वाले किसी भी तरह की टिप्पणी, बयान ना देने या उनका प्रसार ना करने को कहा गया है. 

(इनपुट: भाषा)